समर्थक

सोमवार, 28 अगस्त 2017

बीते दिन लौट रहे हैं -------- नवगीत

               बीते दिन  लौट रहे हैं ---------  नवगीत --


  • ये   सुनकर   उमंग    जागी   है  ,
  • कि   बीते    दिन   लौट  रहे   हैं  ;
  • उन  राहों  में    फूल      खिल   गए  -
  •  जिनमे  कांटे  बहुत     रहे   है   !
  •  चिर    प्रतीक्षा     सफल    हुई -
  • यत्नों    के  फल   अब   मीठे    हैं ,
  •  उतरे   हैं     रंग     जो   जीवन   में-   
  • वो     इन्द्रधनुष    सरीखे हैं  
  •  मिटी   वेदना   अंतर्मन  की --
  •  खुशियों  के  दिन  शेष    रहे   हैं   -!!  
  • वो  एक लहर   समय  की    थी साथी    -
  • आई  और   आकर   चली  गई, 
  • कसक   है  इक  निश्छल    आशा  -
  • हाथ     अपनों  के  छली  गई  ; 
  • छद्म  वैरी   गए पहचाने   -
  • जिनके     अपनों   के    भेष     रहे  हैं  !!
  • पावन ,  निर्मल    प्रेम   सदा     ही -
  •  रहा     शक्ति    मानवता   की  ,
  • जग  में   ये   नीड़   अनोखा  है -
  • जहाँ    जगह   नहीं  मलिनता   की  ;
  •  युग  आये -  आकर  चले   गए  , 
  • पर    इसके   रूप    विशेष   रहे  हैं  !!
  • उन  राहों     में  फूल  खिल    गए 
  • जिनमे    कांटे      बहुत  रहे  हैं  !!!!!!!

विशेष रचना

क्षमा करना हे श्रमवीर!

औरंगबाद के दिवंगत   श्रमवीरों के नाम --        ऐसे सोये- सोते ही रहे- -- , भला! ऐसी भी क्या आँख लगी ? पहचान सके ना मौत कीआहट-   अ...