समर्थक

गुरुवार, 13 जुलाई 2017

गाँव में कोई फिर लौटा है -- नवगीत

              

मुद्दत      बाद   सजी   गलियां     रे  -
गाँव    में    कोई    फिर   लौटा    है   !
जीवन     बना    है     इक    उत्सव    रे   -
गाँव    में    कोई  फिर  लौटा    है     !  !

रोती  थी    घर    की    दीवारें    
छत    भी    यूँ     ही    चुपचाप      पड़ी  थी  ,
जीवन   न   था    जीने   जैसा  -
मौत      से  बढ़कर    एक    घडी    थी
 लेकर   घर    भर    की   खुशियाँ     रे -
गाँव    में  कोई    फिर   लौटा   है   ! !

पनधट  पे   चर्चा  उसकी -
घर  -  घर   में     -होती     बात  यही   ,
लौटी     है   गलियों    की   रौनक   -
जो     थी   उसके  साथ   गई    ;
 लेकर  साथ  समय  बीता  रे  --
गाँव  में  कोई   फिर   लौटा  है ! !

उसके  साथी  जब  जब करते  थे
उसका जिक्र चौपालों में ,
उसके  आने  की  खातिर -
 नित जुड़ते  थे हाथ   शिवालों  में ;
 बन  पुरवैया  का झोंका रे --
गाँव में कोई फिर लौटा  है

अमृत    बने   किसी  के  आंसू   -
 रोदन      बदले     शहनाई    में ,
लाज    से  बोझिल      पलकों    पर
सज     गए    सपने    तन्हाई  में ;
बनकर     राधा  का  कान्हा   रे-
 गाँव  में  कोई  फिर  लौटा     है !!!!

मुद्दत      बाद   सजी   गलियां     रे  -
गाँव    में    कोई    फिर   लौटा    है   !
जीवन     बना    है     इक    उत्सव    रे
गाँव    में    कोई  फिर  लौटा    है     !!!!!!!!!!!

स्वरचित -- रेणु
गूगल प्लस से अनमोल टिप्पणी साभार 
Kailash Sharma's profile photo
बहुत सुन्दर और भावपूर्ण अभिव्यक्ति...अपने ब्लॉग से रजिस्टर करने की आवश्यकता हटा दें तो कमेंट्स देने में सुविधा रहेगी...
 --------------------------------

विशेष रचना

क्षमा करना हे श्रमवीर!

औरंगबाद के दिवंगत   श्रमवीरों के नाम --        ऐसे सोये- सोते ही रहे- -- , भला! ऐसी भी क्या आँख लगी ? पहचान सके ना मौत कीआहट-   अ...