मेरी प्रिय मित्र मंडली

शुक्रवार, 19 अप्रैल 2019

तुम मिले कोहिनूर से -- कविता


विशेष रचना

चाँद नगर सा गाँव तुम्हारा ----- कविता ---

चाँद नगर सा गाँव तुम्हारा   भला ! कैसे पहुँच पाऊँगी मैं ?  पर ''इक रोज मिलूंगी तुमसे  '' कह जी को बहलाऊंगी मैं ! मौन...