समर्थक

सोमवार, 22 जुलाई 2019

सुनो चाँद !-- कविता


   à¤šà¤‚द्रयान के चित्र के लिए छवि परिणाम

अब  नहीं हो! दुनिया के लिए, 
 तुम तनिक  भी अंजाने, चाँद!
 सब जान गए राज तुम्हारा 
 तुम इतने  भी नहीं    सुहाने, चाँद! 

बहुत भरमाया सदियों तुमने ,
गढ़ी झूठी कहानी थी;
 थी वह तस्वीर एक धुंधली  ,
नहीं  सूत कातती नानी थी;
युग_युग से बच्चों के मामा -
 क्या कभी आये लाड़ लगाने?चाँद !
  
 खोज -  खबर लेने तुम्हारी , 
विक्रम संग प्रज्ञान चला है।
 ले  खूब  दुआओं के तोहफे,
 तुम्हे  मिलने  हिन्दुस्तान चला है ;
  ना होना तनिक  भी विचलित   -
 नहीं आया  कोई भरमाने , चाँद !   

 उत्तरी ध्रुव के भेद खुले -

अब दक्षिण की बारी है;
 करो !हम से भी  भाईचारा,
 नहीं    कोई दुश्वारी  है;  
 टंके रहोगे कब तक तन्हा ?
 अन्तरिक्ष में  वीराने , चाँद!
स्वरचित -- रेणु

चित्र - Google से साभार ----   

भारतवर्ष के गौरव 'इसरो' को चंद्रयान-2 के सफल प्रक्षेपण के लिए हजारों सलाम!
सभी प्रतिभाशाली वैज्ञानिक  बधाई  के पात्र हैं | 

शुक्रिया शब्दनगरी -----

रेणु जी बधाई हो!,

आपका लेख - (सुनो चाँद ! ) आज की सर्वश्रेष्ठ रचना के रूप में चयनित हुआ है | आप अपने लेख को आज शब्दनगरी के मुख्यपृष्ठ (www.shabd.in) पर पढ़ सकते है | 
धन्यवाद, शब्दनगरी संगठन     

विशेष रचना

क्षमा करना हे श्रमवीर!

औरंगबाद के दिवंगत   श्रमवीरों के नाम --        ऐसे सोये- सोते ही रहे- -- , भला! ऐसी भी क्या आँख लगी ? पहचान सके ना मौत कीआहट-   अ...