मेरी प्रिय मित्र मंडली

बुधवार, 17 अक्तूबर 2018

कहीं मत जाना तुम -- कविता


बिनसुने मन की व्यथा  
दूर कहीं मत जाना तुम !
कब किसने कितना सताया 
सब कथा सुन जाना तुम ! !

जाने कब से जमा है भीतर 
दर्द की अनगिन तहें , 
 ज़ख्म बन चले नासूर 
अब तो लाइलाज से हो गए ; 
मुस्कुरा दूँ मैं जरा सा 
वो वजह बन जाना तुम ! ! 

रोक  लूँगी मैं  तुम्हें    
किसी पूनम की चाँद रात में ,
उस पल में जी  लूँगी मैं 
एक  उम्र तुम्हारे साथ में ;
नीलगगन की  छाँव  में बस  
मेरे साथ  जगते जाना तुम ! 

एक नदी बाहर है 
इक मेरे भीतर थमी है ,
 खारे जल की झील बन जो 
कब से  बर्फ़ सी जमी है ;
ताप देकर स्नेह का  
इसको पिघला जाना तुम ! ! 

साथ ना चल सको  
मुझे नहीं शिकवा कोई , 
मेरे समानांतर ही कहीं 
चुन लेना सरल सा पथ कोई ; 
निहार  लूँगी मैं  तुम्हें बस दूर से  
मेरी आँखों से कभी  
ओझल ना हो जाना तुम ! !

बिनसुने  मन की व्यथा  
दूर कहीं मत जाना तुम  !! 
-चित्र ०० गूगल से साभार - 
==============================

शनिवार, 13 अक्तूबर 2018

उलझन -- लघु कविता

Image result for चमेली फूल के चित्र









इक   मधुर एहसास है तुम संग  
 ये अल्हड लडकपन जीना ,
 कभी सुलझाना ना  चाहूँ  
 वो मासूम सी उलझन जीना !

  बीत  ना मन का मौसम जाए  
  चाहूँ समय यहीं थम जाए ;
 हों  अटल ये पल -प्रणय  के साथी  
 भय है, टूट ना ये  भ्रम जाए ,
संबल  बन गया  जीवन का 
 तुम संग ये नाता पावन जीना !

  बाँधूं  अमर  प्रीत- बंध मन के
 तुम  संग  नित  नये ख्वाब सजाऊँ, 
 रोज मनाऊँ तुम रूठो तो
पर    तुमसे रूठना -  कभी ना  चाहूं 
फिर भी  रहती चाहत मन   की  
इक   झूठमूठ की अनबन जीना !! 
=============================
धन्यवाद शब्द नगरी - 

रेणु जी बधाई हो!,

आपका लेख - (उलझन -- लघु कविता) आज के विशिष्ट लेखों में चयनित हुआ है | आप अपने लेख को आज शब्दनगरी के मुख्यपृष्ठ (www.shabd.in) पर पढ़ सकते है | 
धन्यवाद, शब्दनगरी संगठन

================================

विशेष रचना

चाँद नगर सा गाँव तुम्हारा ----- कविता ---

चाँद नगर सा गाँव तुम्हारा   भला ! कैसे पहुँच पाऊँगी मैं ?  पर ''इक रोज मिलूंगी तुमसे  '' कह जी को बहलाऊंगी मैं ! मौन...