समर्थक

शनिवार, 20 जनवरी 2018

बसंत बहार से तुम --- कविता

Image result for जीवन में बसंत के फूल
 था पतझड़ सा नीरस  जीवन -
आये बसंत  बहार से तुम ,
सावन भले  भर -भर  बरसे -
 सौंधी   पहली बौछार से तुम  |

  ये मन कितना अकेला था 
एकाकीपन में खोया था  , 
 किसी   ख़ुशी  का इन्तजार  कहाँ 
बुझा - बुझा  हर रोयाँ  था ;
बरसे सहसा तपते मन पे  
  शीतल  मस्त फुहार से तुम ! 

 मधु सपना बन  ठहर  गए - 
  थकी  मांदी  सी आँखों में ,
हो पुलकित  मन ने उड़ान भरी -
   थकन बसी थी  पांखोंमें ;
उल्लास का ले आये तोहफा -
  मीठी मन की   मनुहार से तुम !! 

चिर विचलित प्राणों में साथी -
 आन  बसे संयम से तुम ,
कोई दुआ    हुई  सफल मेरी -
 बने  घाव पे  मरहम से तुम ;
मन के मौसम   पलट गये 
छाये  निस्सीम  विस्तार से तुम |!!!!!!!!!

 स्वरचित - रेणु

विशेष रचना

क्षमा करना हे श्रमवीर!

औरंगबाद के दिवंगत   श्रमवीरों के नाम --        ऐसे सोये- सोते ही रहे- -- , भला! ऐसी भी क्या आँख लगी ? पहचान सके ना मौत कीआहट-   अ...