समर्थक

शुक्रवार, 9 मार्च 2018

जीवन में तुम्हारा होना ---- कविता --





जीवन में  तुम्हारा होना---- कविता --


जब सबने रुला दिया -
तब तुमने हंसा दिया ,
ये कौन प्रीत का  जादू   भीतर  -
तुमने जगा दिया  ?
  
जीवन में  तुम्हारा होना -
 शायद अरमान हमारा था ;
इसी लिए अनजाने में  
 दिल ने   तुम्हें  पुकारा था ;
 सहलाया  घायल  अंतर्मन   --
मरहम सा लगा दिया !!

खुद को भूले  बैठे थे -
जीवन की तप्त दुपहरी थी -
 जो साथ  तुम्हें  लेकर आई -
वो भोर सुनहरी थी ;
तुम आये खुशियाँ संग लाये - 
 हर  दर्द भुला दिया  !!

जो मन में  गूंजा  करता था
 वो इक नाम तेरा ही था ;
 एक अलग रूप में मिला है साथी -
 तू घनश्याम मेरा ही था ;
  साथ  दिया   - मायूसी की  - 
  नींदों से जगा  दिया !!
  
उसी क्षण की परिक्रमा  करता -
ये अनुरागी मन मेरा ,
जो भर  गया दामन  में उमंगे -
और बदल गया जीवन मेरा ;
उपकार बड़ा उस पल का-
 जिसने  तुमसे मिला दिया !!!!!!!!!!!!


चित्र -- गूगल से साभार ----- 
--------------------------------------------------------------------------------

धन्यवाद शब्द नगरी ------ 

रेणु जी बधाई हो!,

आपका लेख - (जीवन में तुम्हारा होना---- कविता -- ) आज के विशिष्ट लेखों में चयनित हुआ है | आप अपने लेख को आज शब्दनगरी के मुख्यपृष्ठ (www.shabd.in) पर पढ़ सकते है | 

-------------------------------------------------------

विशेष रचना

क्षमा करना हे श्रमवीर!

औरंगबाद के दिवंगत   श्रमवीरों के नाम --        ऐसे सोये- सोते ही रहे- -- , भला! ऐसी भी क्या आँख लगी ? पहचान सके ना मौत कीआहट-   अ...