समर्थक

मंगलवार, 30 जनवरी 2018

चाँद साक्षी आज की रात --- कविता

 
तेरे मेरे अनुपम प्रणय का-
 चाँद साक्षी  आज की रात  ;     
 मेरे मन में   तेरे  विलय का -  
चाँद साक्षी आज की रात  !   


झांके  गगन की खिड़की से -
घिरा तारों के झुरमुट से,
 मुस्काए नटखट आनन्द भरा -
छलकाए रस  अम्बर घट से ;
 सजा है आँगन  नील  निलय का -  
चाँद साक्षी आज की रात  !!  


 ये रात बासंती  पूनम की -
अभिलाषा  प्रगाढ़ हुई  मन की '  
मचले  मन  को चैन कहाँ  अब    
 तोड़ रहा सीमा  संयम की ;  
बड़ा  बोझिल ये दौर समय का 
चाँद साक्षी आज की रात !  


 ये पल फिर  लौट ना आयेंगे 
बीत जायेगी     रात सुहानी ये 
कहाँ कोई   इसका सानी  है ?
बड़ा प्यारा   इश्क रूहानी ये ;
न कोई  डर विजय- पराजय का 
चाँद साक्षी आज की रात   !!


 मेरे संग  चंदा से  बतियाओ तो  
 आ तारों से आँख मिलाओ तो , 
 तोड़ो साथी !मौन अधर का  
 मेरे मन की व्यथा सुन जाओ तो :
खोलो बंद    द्वार ह्रदय  का --  
चाँद साक्षी  आज की रात !!! 

   
चित्र--गूगल से साभार  
-------------------------------------------------------------------
 हार्दिक आभार शब्दनगरी ----------- 


रेणु जी बधाई हो!

 
आपका लेख - ( चाँद साक्षी आज की रात ) आज की सर्वश्रेष्ठ रचना के रूप में चयनित हुआ है | आप अपने लेख को आज शब्दनगरी के मुख्यपृष्ठ (www.shabd.in) पर पढ़ सकते है | 31 .1.2018

विशेष रचना

क्षमा करना हे श्रमवीर!

औरंगबाद के दिवंगत   श्रमवीरों के नाम --        ऐसे सोये- सोते ही रहे- -- , भला! ऐसी भी क्या आँख लगी ? पहचान सके ना मौत कीआहट-   अ...