समर्थक

बुधवार, 22 नवंबर 2017

तुम्हारी आँखों से ----- कविता --


तुम्हारी  आँखों से  --

तुम्हारी आँखों से छलक रही है- 
किसी की चाहत अनायास  ,
जो भरी हैं पूनम जैसे उजास से  ;
और हर पल चमकती हैं  -
अँधेरे में जलते दो दीपों की मानिंद  
जो बह रही है ---- 
तुम्हारी बेलौस हंसी के जरिये 
किसी निर्मल और निर्बाध निर्झर सी ! ! 

किसी के सर्वस्व समर्पण ने - 
महका दिया है ---
तुम्हारे अंग - प्रत्यंग को ,
तभी तो तुम्हारी देह ----
नज़र आती है हरदम -- 
किसी खिले फूल सी ---- ! ! 

ये चाहत सम्भाल रही है तुम्हे -- 
जीवन के हर मोड़ पर -- ;
अपनी सीमाओं में बंधी तुम ,
भटकने -बहकने से दूर
बही जा रही हो --- --
सदानीरा नदिया सी मचलती और हुलसती-- 
गंतव्य की और ----- ! !

ये चाहत फ़ैल रही है -
यत्र - तत्र - सर्वत्र ---
सुवासित चंचल पवन की तरह ----
बन्धनों से मुक्त हो ----!! 

सच तो ये है --
कि तुम्हारे भीतर  समा चुका है
किसी और का अस्तित्व -- ;
और दो आत्माएं --
 हो  चुकी हैं एकाकार  !!!!!!!!!!

 स्वरचित -- रेणु  --
-------------------------------------------
G प्लस से साभार----- अनमोल टिप्पणी -- 
 Mahatam Mishra's profile photo
कल्पना का सागर लहरा दिया आप ने आदरणीया, बहुत सुंदर वाह वाह तुम्हारी आँखों से !!!!!!!
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

विशेष रचना

क्षमा करना हे श्रमवीर!

औरंगबाद के दिवंगत   श्रमवीरों के नाम --        ऐसे सोये- सोते ही रहे- -- , भला! ऐसी भी क्या आँख लगी ? पहचान सके ना मौत कीआहट-   अ...