समर्थक

गुरुवार, 2 अगस्त 2018

सुनो बादल !--- कविता


नील गगन में उड़ने वाले -
ओ ! नटखट आवारा बादल ,
मुक्त हवा संग मस्त हो तुम-
किसकी धुन में पड़े निकल !


उजले दिन काली रातों में -
अनवरत घूमते रहते हो ,
उमड़ - घुमड़ कहते जाने क्या -
और किसको ढूंढते रहते हो ?
बरस पड़ते किसकी याद में जाने -
 सहसा  नयन तरल !!


तुम्हारी अंतहीन खोज में -
क्या तुम्हे मिला साथी कोई ?
या फिर नाम तुम्हारे आई
प्यार भरी पाती कोई ?
क्या ठहर कभी मुस्काये हो
या रहते सदा यूँ ही विकल !!


जब पुकारेसंतप्त धरा  तुम -
  बन फुहार तुम आ जाते हो . 
धन - धान्य को समृद्ध करते
 सावन को जब  संग लाते हो ;,
सुरमई घटा देख नाचे मोरा -
पंचम सुर में गाती कोकिल !!

मेघ तुम जग के पोषक
तुमसे सृष्टि पर सब वैभव ,
तुमसे मानवता हरी - भरी -
और जीवन बन जाता उत्सव ;
धरती का तपता दामन-
तुम्हारे स्पर्श से होता शीतल !!
नील गगन में उड़ने वाले -
ओ ! नटखट आवारा बादल !!!!!!!!!!!!

विशेष रचना

क्षमा करना हे श्रमवीर!

औरंगबाद के दिवंगत   श्रमवीरों के नाम --        ऐसे सोये- सोते ही रहे- -- , भला! ऐसी भी क्या आँख लगी ? पहचान सके ना मौत कीआहट-   अ...