मेरी प्रिय मित्र मंडली

गुरुवार, 25 फ़रवरी 2021

सुन जोगन !--- कविता [ Hindi poem]

  

सुन जोगन हुए किसके जोगी ?
ये व्यर्थ लगन मत मन कर रोगी !

पग जोगी के काल का फेरा 

एक जगह कहाँ उसका डेरा ?

कहीं दिन तो कहीं रात बिताये -

बादल सा उड़ लौट ना आये !

झूठा  अपनापन जोगी  का, 

तन उजला ,मैला मन जोगी  का ! 

 मत सजा  ये  मिथ्या सपने, 

बेगाने कब हुये हैं अपने  ?? 

क्यों ले जीवन भर का रोना

ना जोगी ने तेरा होना  !

जिसने  जोगी संग प्रीत लगायी -

करी विरह  के संग  सगाई !! 

73 टिप्‍पणियां:

  1. वाह दी अत्यंत हृदयस्पर्शी,गहन भावों से गूँथी सुंदर कृति👌

    जिसने जोगी संग प्रीत लगायी -
    करी विरह के संग सगाई !!

    सारयुक्त प्रभावशाली पंक्तियाँ दी।
    लिखती रहें मेरा असीम स्नेह और शुभकामनाएं दी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय श्वेता, ये रचना तुम्हारी रचना पर प्रतिक्रिया स्वरूप लिखी गई थी। आजकल लिखना नहीं हो पा रहा, सोचा यही साझा कर दूँ। हार्दिक आभार तुम्हारी स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिए🌹❤

      हटाएं
  2. वाह!सखी रेनु जी ,बेहतरीन सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर ,मार्मिक सृजन प्रिय रेनू जी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार और अभिनंदन उर्मि दीदी❤🙏🙏 🌹

      हटाएं
  4. दिल को छूती बहुत ही सुंदर रचना, रेणु दी।

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज शुक्रवार 26 फरवरी 2021 को साझा की गई है.........  "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार और अभिनंदन बड़े भैया🙏🙏 💐💐

      हटाएं
  6. दार्शनिक अंदाज..गहन भावों को शब्दों में निरूपित कर दिया आपने रेणु जी..सुन्दर कृति..

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार और अभिनंदन प्रिय जिज्ञासा जी ❤🌹

      हटाएं
  7. उत्तर
    1. सादर आभार और अभिनंदन आदरणीय सर🙏🙏 💐💐

      हटाएं
  8. वाह रेणु बहन मनभावन चेतावनी , बहुत सुंदर सृजन ।
    सुंदर आध्यात्मिक दृष्टि से भी गहन भाव लिए अभिनव सृजन।
    सस्नेह।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. रचना के मर्म को स्पष्ट करती प्रतिक्रिया के लिए आभार और अभिनंदन प्रिय कुसुम बहन ❤🌹

      हटाएं
  9. उत्तर
    1. ओंकार जी,सादर आभार और अभिनंदन 🙏🙏 💐💐

      हटाएं
  10. भावपूर्ण और प्रभावी रचना
    बहुत सुंदर
    बधाई

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार और अभिनंदन आदरणीय सर🙏🙏 💐💐

      हटाएं
  11. जोगन तो प्रभु से लौ लगाती है, ना की जोगी से ! जिसने योग अपना लिया वह तो हर चीज से विरक्त हो जाता है

    जवाब देंहटाएं
  12. आपने सत्य कहा गगन जी। एक जोगन ईश्वर से प्रीति लगाती है ना कि किसी जोगी से। पर लोक जीवन में ऐसी अनेक कहानियाँ कही सुनी जाती हैं जिनमें जोगी के प्रति सांसारिक प्रेम का वर्णन मिलता है। और ये रचना ऐसे ही प्रेम को समर्पित रचना पर काव्यात्मक टिप्पणी स्वरूप लिखी गयी थी। यहाँ जोगन का तात्पर्य उस भगवाधारी जोगन से नहीं है।मात्र जोगी के प्रति अनुराग रखने वाली पात्र को प्रतीकात्मक रूप में जोगन कहा गया है। बहुत - बहुत आभार आपकी बेबाक प्रतिक्रिया के लिए।

    जवाब देंहटाएं
  13. हम उत्तर प्रदेश के वासी हैं. हम जोगी-योगी के खिलाफ़ एक शब्द भी सहन नहीं कर सकते.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. 😄😄आपने सत्य कहा । योगी जैसे जोगी की पावर का अंदाजा हमें भी है 😄😃सादर आभार आपकी रोचक, बेबाक प्रतिक्रिया के लिए🙏🙏

      हटाएं
  14. जोगन प्रतीक को बड़े सुंदर ढ़ंग से उपयोग किया है आपने।

    जवाब देंहटाएं
  15. सरल सहज विन्यास मे बुनी सच्ची कविता, साधु !

    जवाब देंहटाएं
  16. वह बहुत खूब, दार्शनिक अंदाज़ ...

    जवाब देंहटाएं
  17. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (2-3-21) को "बहुत कठिन है राह" (चर्चा अंक-3993) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    --
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
  18. सुन जोगन हुए किसके जोगी ?
    ये व्यर्थ लगन मत मन कर रोगी !

    पग जोगी के काल का फेरा
    एक जगह कहाँ उसका डेरा ?

    "प्रेम-मगन जोगन को कहाँ समझ आती है ये समझदारी की बातें "

    लाज़बाब सृजन,हृदयस्पर्शी अभिव्यक्ति सखी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार सखी तुम्हारी स्नेह भरी प्रतिक्रिया के लिए🌹🌹

      हटाएं
  19. भले ही कितना ही समझा लो , मन लगना होगा तो लग ही जायेगा । सुंदर अभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. संगीता जी, सबसे पहले मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है। आभारी हूँ आपने रचना पढ़ी और प्रतिक्रिया दी ❤❤🙏🌹🌹

      हटाएं
  20. बहुत ही खूबसूरती से सच्चाई को दिखाती हुई खूबसूरत पंक्ति जिसे आपने बहुत ही खूबसूरती से व्यक्त किया है

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय मनीषा, बहुत -बहुत आभार आपका ❤🌹

      हटाएं
    2. मैम इसकी कोई जरूरत नहीं आप तारीफ के योग्य हैं,
      पर हां मैंने नई पोस्ट डाली तो कृपया एक बार देख लीजिए और अपनी राय व्यक्त कीजिए!कि क्या त्रुटि है और क्या खूबी!

      हटाएं
  21. आध्यात्मिकता और सांसारिकता का समन्वय लिए अत्यंत सुन्दर
    सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार मीना जी आपकी स्नेह भरी प्रतिक्रिया के लिए🌹🌹

      हटाएं
  22. झूठा अपनापन जोगी का,
    तन उजला ,मैला मन जोगी का !

    मत सजा ये मिथ्या सपने,
    बेगाने कब हुये हैं अपने ?? ---बहुत अच्छी रचना है...।

    जवाब देंहटाएं
  23. खूबसूरती से सच्चाई को दिखाती हुई खूबसूरत रचना

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सस्नेह आभार प्रिय संजय | बहुत दिनों बाद तुम्हारा ब्लॉग पर आना बहुत अच्छा लगा |

      हटाएं
  24. बहुत ही सुन्दर व दिव्य भावों से ओतप्रोत मुग्ध करती कविता - - साधुवाद सह।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. ब्लॉग पर आपकी उपस्थिति के लिए सादर आभार शांतनु जी |

      हटाएं
  25. बहुत खूबसूरत

    जोगी जैसा मन भी है चंचल
    आसमाँ ओढ़े बादल सा अंचल

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आपका | ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है |

      हटाएं
  26. जिसने जोगी संग प्रीत लगायी -
    करी विरह के संग सगाई !! वाह! निर्गुण का अविरल प्रवाह !!!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय विश्वमोहन जी | आपकी प्रतिक्रिया अनमोल है मेरे लिए |

      हटाएं
  27. आध्यात्म औऱ दर्शन का खूबसूरत चित्रण
    जोगन का आलौकिक प्रेम ही उसकी साधना का प्रतीक है, इस प्रेम को मनुष्य को समझना होगा

    बहुत अच्छी रचना
    बधाई

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर |आपकी स्नेहिल प्रतिक्रिया अनमोल है |

      हटाएं
  28. "झूठा अपनापन जोगी का..." इन दो पंक्तियों में गजब का विरोधाभास देखने को मिला है, सार है, जान ये पंक्तियां।
    उत्तम कृति।
    आपके कहने पर नई रचना डाली है आइयेगा गुजरे वक़्त में से...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय रोहित बहुत -बहुत आभार और अभिनन्दन | जरुर आ रही हूँ तुम्हारी रचना पढने | देर हो गयी आते आते |हार्दिक स्नेह |

      हटाएं
  29. बहुत अच्छा गीत।बधाई और शुभकामनाएं।आप यशस्वी हों

    जवाब देंहटाएं
  30. बहुत सुंदर भाव 🙏 भोलेबाबा की कृपादृष्टि आप पर सदा बनी रहे।🙏 महाशिवरात्रि पर्व की आपको परिवार सहित शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  31. सस्नेह आभार सवाई जी | ब्लॉग पर आपका स्वागत है |

    जवाब देंहटाएं
  32. पग जोगी के काल का फेरा
    एक जगह कहाँ उसका डेरा ?

    कहीं दिन तो कहीं रात बिताये -
    बादल सा उड़ लौट ना आये !

    बहुत ही सटीक ....
    पर जोगन भी कहाँ सोच समझ कर प्रीत करती है
    और एक बार प्रीत जो हुई तो विरह में जीवन भर जलती है
    पर किसी के भी समझाये कहाँ पीछे हटती है
    बहुत ही लाजवाब गीत।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. रचना के मर्म को छूती प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार प्रिय सुधा जी।

      हटाएं
  33. सुंदर अभिव्यक्ति, अति उत्तम,सत्य का आभास कराती हुई एक बेहतरीन रचना, बधाई हो आपको सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय ज्योति जी, ब्लॉग पर आपका हार्दिक अभिनंदन है। आपके ब्लॉग भ्रमन से मन आह्लादित है। कोटि आभार आपकी स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिए।

      हटाएं
  34. कमाल का हर शेर ... आध्यात्म, फकीराना अंदाज़ और जोगी का भाव लिए ...
    हर बंध में अलग भाव ... सटीक, बिम्ब उतार के रख देती है जोगन का यस कमाल की अभिव्यक्ति ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार और अभिनंदन दिगम्बर जी🙏🙏🙏

      हटाएं

Yes

विशेष रचना

चाँद नगर सा गाँव तुम्हारा ----- कविता ---

चाँद नगर सा गाँव तुम्हारा   भला ! कैसे पहुँच पाऊँगी मैं ?  पर ''इक रोज मिलूंगी तुमसे  '' कह जी को बहलाऊंगी मैं ! मौन...