समर्थक

बुधवार, 17 अक्तूबर 2018

कहीं मत जाना तुम -- कविता


बिनसुने - मन की व्यथा --
दूर कहीं मत जाना तुम !
किसने - कब- कितना सताया -
सब कथा सुन जाना तुम ! !

जाने कब से जमा है भीतर --
दर्द की अनगिन तहें , 
जख्म बन चले नासूर - 
अब तो लाइलाज से हो गए ; 
मुस्कुरा दूँ मैं जरा सा -- 
वो वजह बन जाना तुम ! ! 

रोक लूंगी मैं तुम्हे - 
किसी पूनम की चाँद रात में ,
उस पल में जी लूंगी मैं-
उम्र सारी - तुम्हारे साथ में ;
नील गगन की छांव में बस - 
मेरे साथ जगते जाना तुम ! 

एक नदी बाहर है - 
इक मेरे भीतर थमी है ,
खारे जल की झील बन जो -
कब से बर्फ सी जमी है ;
ताप देकर स्नेह का -
इसको पिंघला जाना तुम ! ! 

साथ ना चल सको - 
मुझे नहीं शिकवा कोई , 
मेरे समानांतर ही कहीं -
चुन लेना सरल सा पथ कोई ; 
निहार लूंगी मैं तुम्हे बस दूर से - 
मेरी आँखों से कभी- ओझल ना हो जाना तुम ! !

बिनसुने -- मन की व्यथा - 
दूर कहीं मत जाना तुम  !!!!!!!!!!!!!!
-चित्र ०० गूगल से साभार - 
==============================

शनिवार, 13 अक्तूबर 2018

उलझन -- लघु कविता

Image result for चमेली फूल के चित्र









इक   मधुर एहसास है तुम संग -
 ये अल्हड लडकपन जीना ,
 कभी सुलझाना ना चाहूं -
 वो मासूम सी उलझन जीना !

  बीत  ना मन का मौसम जाए - 
 चाहूं समय यहीं थम जाए ;
 हों  अटल ये पल -प्रणय  के साथी -
 भय है, टूट ना ये  भ्रम जाए 
संबल  बन गया  जीवन का -
 तुम संग ये नाता पावन जीना !

  बांधूं   अमर  प्रीत- बंध मन के
 तुम  संग  नित  नये ख्वाब सजाऊँ 
 रोज मनाऊँ तुम रूठो तो
पर    तुमसे रूठना -  कभी ना  चाहूं 
फिर भी  रहती -चाहत मन   की  
इक   झूठमूठ की अनबन जीना !!!!!!!!
=============================
धन्यवाद शब्द नगरी - 

रेणु जी बधाई हो!,

आपका लेख - (उलझन -- लघु कविता) आज के विशिष्ट लेखों में चयनित हुआ है | आप अपने लेख को आज शब्दनगरी के मुख्यपृष्ठ (www.shabd.in) पर पढ़ सकते है | 
धन्यवाद, शब्दनगरी संगठन

================================

शनिवार, 29 सितंबर 2018

नेह - तूलिका -कविता




सुनो !   सखा- ले   नेह - तूलिका -
 रंग दो मन की कोरी चादर
 हरे ,गुलाबी ,  लाल , सुनहरी 
 रंग इठलायें  जिस पर  खिलकर !!

 सजे  सपने इन्द्रधनुष के   -
 नीड- नयन     से मैं   निहारूं 
सतरंगी आभा पर इसकी -
तन -मन मैं  अपना     वारूँ
बहें  नैन -जल कोष  सहेजे--
 मुस्काऊँ  नेह -अनंत पलक  भर !!
  
स्नेहिल सन्देश   तुम्हारे -
 नित शब्दों में  तुमसे मिल लूं   -
 यादों के गलियारे  भटकूँ -
फिर से  बीते हर  पल  जी लूं  ;
डूबूं आकंठ उन  घड़ियों में -
 दुनिया की हर सुध  बिसराकर

   अनंत मधु मिठास रचो तुम
आहत मन की आस रचो तुम
रचो प्रीत उत्सव कान्हा बन -
 जीवन  का मधुमास रचो तुम 
  खिलो कंवल  बन   मानसरोवर  
 सजो  अधर   चिर हास तुम  बनकर !!!!!!!!!
चित्र -- पञ्च लिंकों से साभार --  
===============================================
धन्यवाद  शब्दनगरी ------- 

रेणु जी बधाई हो!,

आपका लेख - (नेह तुलिका -- ) आज के विशिष्ट लेखों में चयनित हुआ है | आप अपने लेख को आज शब्दनगरी के मुख्यपृष्ठ (www.shabd.in) पर पढ़ सकते है | 
===============================================================

  


शनिवार, 22 सितंबर 2018

तृष्णा मन की - कविता

Image result for  फूल   के चित्र
 मिले  जब  तुम अनायास -
 मन मुग्ध    हुआ  तुम्हें  पाकर  ;
 जाने थी कौन तृष्णा  मन की - 
जो छलक गयी अश्रु बनकर   ? 

 हरेक     से मुंह मोड़ चला -
  मन तुम्हारी  ही   ओर चला
 अनगिन    छवियों में उलझा -
  तकता   हो भावविभोर चला-
 जगी भीतर  अभिलाष  नई-
 चली ले उमंगों की नयी डगर  ! !

प्राण स्पंदन हुए कम्पित,
जब सुने स्वर तुम्हारे सुपरिचित ;
जाने ये भ्रम था या तुम  वो  ही थे-
 सदियों से  थे  जिसके   प्रतीक्षित;
 कर  गये शीतल- दिग्दिगंत   गूंजे- 
 तुम्हारे ही    वंशी- स्वर मधुर !!



 डोरहीन   ये  बंधन  कैसा ?
यूँ अनुबंधहीन     विश्वास  कहाँ ?
  पास नही    पर  व्याप्त मुझमें
 ऐसा जीवन  -  उल्लास  कहाँ ?
 कोई गीत  कहाँ मैं  रच पाती ? 
तुम्हारी रचना ये शब्द प्रखर !
------------------------------
धन्यवाद शब्दनगरी 

रेणु जी बधाई हो!,

आपका लेख - (तृष्णा मन की - ) आज के विशिष्ट लेखों में चयनित हुआ है | आप अपने लेख को आज शब्दनगरी के मुख्यपृष्ठ (www.shabd.in) पर पढ़ सकते है | 
धन्यवाद, शब्दनगरी संगठन

===============================================

शनिवार, 8 सितंबर 2018

तुम्हे समर्पित सब गीत मेरे--

Image result for चमेली के चित्र
मीत कहूं ,मितवा कहूं ,
क्या कहूं तुम्हे  मनमीत मेरे ?
 नाम तुम्हारे ये शब्द  मेरे
 तुम्हे समर्पित सब गीत मेरे !!


 हर बात  कहूं  तुमसे मन की  -

 कह अनंत सुख पाऊँ मैं ,
 निहारूं नित मन- दर्पण में  -
  तुम्हे  स्व सम्मुख   पाऊँमैं;
सजाऊँ  ख्वाब नये  तुम संग -
 भूल, ये  गीत -अतीत मेरे  !!

सृष्टि में जो ये प्रणय का
 अदृश्य  सा महाविस्तार है -
जो युगों से है अपना -
 वही इसका दावेदार है --
बंधने नियत थे तुम संग -
जन्मों के बंध पुनीतमेरे !!
  
अनुराग बन्ध में सिमटी मैं 
यूँ ही पल- पल जीना  चाहूं ,
सपन- वपन कर डगर पे साथी -
संग तुम्हारे चलना चाहूं ;
 तेरे प्यार  से हुए हैं जगमग -
ये नैनों के दीप मेरे  !!
 नाम तुम्हारे हर  शब्द  मेरे
 तुम्हे समर्पित सब गीत मेरे !!!!!!!!!
==================================
 धन्यवाद शब्दनगरी --------

रेणु जी बधाई हो!,

आपका लेख - (तुम्हे समर्पित सब गीत मेरे -- कविता ) आज की सर्वश्रेष्ठ रचना के रूप में चयनित हुआ है | आप अपने लेख को आज शब्दनगरी के मुख्यपृष्ठ (www.shabd.in) पर पढ़ सकते है | 
धन्यवाद, शब्दनगरी संगठन
======================
  

शनिवार, 25 अगस्त 2018

भैया तुम हो अनमोल ! ---कविता --

 Image result for रक्षा बंधन के चित्र
जग में हर वस्तु का मोल -
 पर भैया तुम हो अनमोल  !

दर-दर पर शीश झुका करके -
 मांगा था तुझे विधाता से -
तुम सा कहाँ कोई  स्नेही-  सखा मेरा -
मेरा  तो  गाँव तेरे दम से ;
 सुख- दुःख  साझा  कर लूं अपना  
रख  दूं  तेरे  आगे मन  खोल !!

बचपन में जब तुमने गिर -गिर -
 ये ऊँगली पकड चलना सीखा ,
 नीलगगन का चंदा भी -
था तेरे आगे बड़ा फीका ;
 धरती पर मानो देव  उतरे -
 सुनकर तेरे तुतलाते बोल !!

 बाबुल की बैठक की तुम शोभा -
 तुमसे  माँ का उजला अंगना ;
 भाभी की मांग सजी तुमसे -
 हो तुम उसकी प्रीत का गहना ;
तुमसे बढ़ ना कोई धन मेरा -
 चाहे जग दे तराजू  तोल !! 

लेकर राखी के दो तार -
 आऊँ स्नेह का पर्व मनाने ,
 घूमूं बचपन की गलियों में -
 पीहर  देखूं तेरे बहाने ;
 बहना  मांगे प्यार तेरा बस -
 ना मांगे राखी का मोल !!
जग में हर वस्तु का मोल -
 पर भैया तुम हो अनमोल  !!!!!!!!!!!
====================================================

शनिवार, 18 अगस्त 2018

क्या लिखूं तुमसे परिचय मेरा ?-- कविता



क्या लिखूं तुमसे परिचय मेरा ?
 तुम  पावन स्नेह प्रश्रय मेरा !!

 कब स्वर में मुखरित हो पाते हो
शब्दों  में  कहाँ समाते हो ?-
मैं  हसूं- हंसी में हंस जाते  - 
बन घन नैना छलकाते  हो
सपनों से  भर  जाते    कैसे ?
 सूना   पलक- निलय मेरा  !!

क्यों  विकल करजाता  मन को
अरूप , अनाम   सा ये  नाता
जैसे  भाये  तुम   अनायास
 कहाँ  यूँ   मन कोकोई  भाता ?
पा तुम्हे सब भूल गया है -
  बौराया    ह्रदय मेरा !!


पुलकित    सी  इस प्रीत - प्रांगण  में  
हो कर  निर्भय   मैं विचरूं,
भर  विस्मय  में  तुम्हे निहारूं -
रज बन पथ में  बिखरूं ;
हुई खुद से  अपरिचित सी   मैं -
यूँ  तुझमे हुआ विलय मेरा !! 

क्या लिखूं तुमसे परिचय मेरा ?
 तुम  पावन स्नेह प्रश्रय मेरा !!!!!!!!!!!!!!!!
चित्र और विषय -- पांच लिंकों से साभार |
=======================================

===============================================

शनिवार, 11 अगस्त 2018

अमर शहीद के नाम -- कविता

Image result for शहीदों के चित्र
जब तक हैं  सूरज चाँद   --
अटल   नाम तुम्हारा है ,
 ओ ! माँ भारत  के लाल !
 अमर    बलिदान तुम्हारा  है !!-

आनी ही थी मौत तो  इक दिन --
  जाने किस मोड़ पे आ जाती.-
 कैसे पर गर्व से   फूलती , -
  मातृभूमि  की छाती ;-
दिग -दिंगत में    गूंज  रहा आज     --
यशोगान तुम्हारा है !!
ओ ! माँ भारत  के लाल !
 अमर   बलिदान तुम्हारा  है !!

 धन्य हुई आज वो जननी -  
तुम जिसके बेटे हो ,-
 बना दिया मौत को उत्सव --
 तिरंगे में  लिपट घर लौटे हो ;-
कल  थे एक   गाँव - शहर   के --
 अब    हिंदुस्तान   तुम्हारा  है !!-

ओ ! माँ भारत  के लाल !-
 अमर  बलिदान तुम्हारा  है !!

अत्याचारी  कपटी दुश्मन   
छिपके  घात  लगाता ,-
नामों  निशान मिटा देते उसका --
जो आँख से आँख मिलाता ;-
 पराक्रम से   फिर भी   सहमा  --
दुश्मन हैरान तुम्हारा है  -

-ओ ! माँ भारत  के लाल !-
 अमर   बलिदान तुम्हारा  है !!!!!!!!!!!

नमन ! नमन ! नमन !!!!!!!!!!! 
चित्र -- गूगल से साभार---
==================================
धन्यवाद शब्द नगरी -----

रेणु जी बधाई हो!,

आपका लेख - (अमर शहीद के नाम -- ) आज के विशिष्ट लेखों में चयनित हुआ है | आप अपने लेख को आज शब्दनगरी के मुख्यपृष्ठ (www.shabd.in) पर पढ़ सकते है | 
धन्यवाद, शब्दनगरी संगठन

============================================== 



गुरुवार, 2 अगस्त 2018

सुनो बादल !--- कविता


नील गगन में उड़ने वाले -
ओ ! नटखट आवारा बादल ,
मुक्त हवा संग मस्त हो तुम-
किसकी धुन में पड़े निकल !


उजले दिन काली रातों में -
अनवरत घूमते रहते हो ,
उमड़ - घुमड़ कहते जाने क्या -
और किसको ढूंढते रहते हो ?
बरस पड़ते किसकी याद में जाने -
 सहसा  नयन तरल !!


तुम्हारी अंतहीन खोज में -
क्या तुम्हे मिला साथी कोई ?
या फिर नाम तुम्हारे आई
प्यार भरी पाती कोई ?
क्या ठहर कभी मुस्काये हो
या रहते सदा यूँ ही विकल !!


जब पुकारेसंतप्त धरा  तुम -
  बन फुहार तुम आ जाते हो . 
धन - धान्य को समृद्ध करते
 सावन को जब  संग लाते हो ;,
सुरमई घटा देख नाचे मोरा -
पंचम सुर में गाती कोकिल !!

मेघ तुम जग के पोषक
तुमसे सृष्टि पर सब वैभव ,
तुमसे मानवता हरी - भरी -
और जीवन बन जाता उत्सव ;
धरती का तपता दामन-
तुम्हारे स्पर्श से होता शीतल !!
नील गगन में उड़ने वाले -
ओ ! नटखट आवारा बादल !!!!!!!!!!!!

गुरुवार, 5 जुलाई 2018

जो ये श्वेत,आवारा , बादल -- कविता

जो ये  श्वेत,आवारा , बादल -कविता
 जो ये श्वेत,आवारा , बादल - 
रंग -श्याम रंग ना आता –
कौन सृष्टि के पीत वसन को- 
रंग के हरा कर पाता ?

ना सौंपती इसे जल संपदा – 
कहाँ सुख से
 नदिया सोती ?
इसी जल को अमृत घट सा भर-
नभ से कौन छलकाता ?

किसके रंग- रंगते कृष्ण सलोने 
घनश्याम कहाने खातिर ?
इस सुधा रस बिन कैसे -
चातक अपनी प्यास बुझाता ?

पी छक जो तृप्त धरा ना होती –
सजती कैसे नव सृजन की बेला ?
करता कौन जग को पोषित –
अन्न धन कहाँ से आता ?

किसकी छवि पे मुग्ध मयूरा
सुध बुध खो नर्तन करता ?
कोकिल  सु स्वर दिग्दिगंत में
आनंद कैसे भर पाता ?

टप-टप गिरती बूंदों बिन -
कैसे आंगन में उत्सव सजता ?
दमक दामिनी संग व्याकुल हो
 मेघ जो- राग मल्हार ना गाता ?

कहाँ से खिलते पुष्प सजीले,
कैसे इन्द्रधनुष सजता ?
विकल अम्बर का ले सन्देशा 
कौन धरा तक आता ? ?????????
चित्र गूगल से साभार --- 
===============================================

रेणु जी बधाई हो!,

 आपका लेख - (जो ये श्वेत,आवारा , बादल -कविता ) आज के विशिष्ट लेखों में चयनित हुआ है | आप अपने लेख को आज शब्दनगरी के मुख्यपृष्ठ (www.shabd.in) पर पढ़ सकते है | 
==========================================================================

कहीं मत जाना तुम -- कविता

बिनसुने - मन की व्यथा -- दूर कहीं मत जाना तुम ! किसने - कब- कितना सताया - सब कथा सुन जाना तुम ! ! जाने कब से जमा है भीतर -- ...