समर्थक

बुधवार, 17 अक्तूबर 2018

कहीं मत जाना तुम -- कविता


बिनसुने - मन की व्यथा --
दूर कहीं मत जाना तुम !
 कब किसने कितना सताया 
सब कथा सुन जाना तुम ! !

जाने कब से जमा है भीतर 
दर्द की अनगिन तहें , 
जख्म बन चले नासूर 
अब तो लाइलाज से हो गए ; 
मुस्कुरा दूँ मैं जरा सा 
वो वजह बन जाना तुम ! ! 

रोक  लूँगी मैं  तुम्हें  - 
किसी पूनम की चाँद रात में ,
उस पल में जी  लूँगी मैं-
 सारी उम्र तुम्हारे साथ में ;
नील गगन की  छाँव  में बस - 
मेरे साथ जगते जाना तुम ! 

एक नदी बाहर है - 
इक मेरे भीतर थमी है ,
 खारे जल की झील बन जो 
कब से  बर्फ़ सी जमी है ;
ताप देकर स्नेह का -
इसको पिघला जाना तुम ! ! 

साथ ना चल सको - 
मुझे नहीं शिकवा कोई , 
मेरे समानांतर ही कहीं -
चुन लेना सरल सा पथ कोई ; 
निहार  लूँगी मैं  तुम्हें बस दूर से - 
मेरी आँखों से कभी- ओझल ना हो जाना तुम ! !

बिनसुने -- मन की व्यथा - 
दूर कहीं मत जाना तुम  !! 
-चित्र ०० गूगल से साभार - 
==============================

विशेष रचना

क्षमा करना हे श्रमवीर!

औरंगबाद के दिवंगत   श्रमवीरों के नाम --        ऐसे सोये- सोते ही रहे- -- , भला! ऐसी भी क्या आँख लगी ? पहचान सके ना मौत कीआहट-   अ...