समर्थक

गुरुवार, 29 अगस्त 2019

लिख दो कुछ शब्द -



लिख दो ! कुछ शब्द
नाम मेरे ,
अपने होकर ना यूँ -
बन बेगाने रहो तुम !
हो दूर भले - पास मेरे .
इनके ही बहाने रहो तुम !

कोरे कागज पर उतर कर .
ये अमर हो जायेंगे ;
जब भी छन्दो में ढलेंगे ,
गीत मधुर हो जायेंगे ;
ना भूलूँ जिन्हें उम्र भर
बन प्रीत के तराने रहो तुम !

जब तुम ना पास होंगे
इनसे ही बाते करूँगी .
इन्हीं में मिलूंगी तुमसे
जी भर मुलाकाते करूँगी
शब्दों संग मेरे भीतर बस
मेरे साथी रूहाने रहो तुम !

जीवन की
ढलती साँझ में
ये दुलारेंगे मुझे ,
तुम्हारे ही प्रतिरूप में-
स्नेहवश निहारेंगे मुझे ;
रीती पलकों पर मेरी
बन सपने सुहाने रहो तुम !

कौन जाने कब कहाँ
हो आखिरी पल इस मिलन का
शब्दों की अनुगूँज ही
होगी अवलंबन विकल मन का
पुकार सुनो
विचलित मन की
ना इस दर्द से अंजाने रहो तुम !!
  
स्वरचित  -- रेणु
धन्यवाद शब्दनगरी 
 ==========================

रेणु जी बधाई हो!,

आपका लेख - ( लिख दो कुछ शब्द -- ) आज के विशिष्ट लेखों में चयनित हुआ है | आप अपने लेख को आज शब्दनगरी के मुख्यपृष्ठ (www.shabd.in) पर पढ़ सकते है | 
धन्यवाद, शब्दनगरी संगठन

विशेष रचना

क्षमा करना हे श्रमवीर!

औरंगबाद के दिवंगत   श्रमवीरों के नाम --        ऐसे सोये- सोते ही रहे- -- , भला! ऐसी भी क्या आँख लगी ? पहचान सके ना मौत कीआहट-   अ...