समर्थक

सोमवार, 18 सितंबर 2017

सुनो गिलहरी --------- कविता

सुनो    गिलहरी ------------ कविता
पेड़ की फुनगी के मचान से -
क्या खूब झांकती  शान से ,
देह इकहरी काँपती ना हांफती --
निर्भय हो घूमती  स्वाभिमान से ! 

पूंछ उठाये - चौकन्नी निगाहें - 
चल देती  जिधर मन आये 
छत , दीवार , तार या खंबा -- 
बड़ी सरल हैं तुम्हारी राहें ! 

जहाँ जी चाहे आँख मूँद सो लेती
मसला पानी है ना रोटी ;
भूख में फल पेट भर खाती - 
माँ की रखी कुजिया से झटपट पानी पी जाती ! 

घूमती डाल - डाल और पात - पात - 
मलाल नहीं कोई नहीं है साथ ; 
आज की चिंता ना कल की फ़िक्र -- 
देख लिए हैं पेड़ के सारे फल चखकर ,

फुदकती मस्ती में - हो बड़ी सयानी
बन बैठी हो पूरी बगिया की महारानी ,
सुबह ,शाम ना देखती दुपहरी -- 
दुनिया में तुम सबसे सुखी हो गिलहरी!! 

स्वरचित --रेणु
चित्र -- गूगल से साभार -- 

------------------------------
 गूगल से साभार -- अनमोल टिप्पणी --

दुनिया मे तुम सबसे सुखी हो गिलहरी!
जीवन का दर्शन, तुम जीती हर घड़ी ।
-----------------------------------------------

विशेष रचना

क्षमा करना हे श्रमवीर!

औरंगबाद के दिवंगत   श्रमवीरों के नाम --        ऐसे सोये- सोते ही रहे- -- , भला! ऐसी भी क्या आँख लगी ? पहचान सके ना मौत कीआहट-   अ...