मेरी प्रिय मित्र मंडली

सोमवार, 22 मार्च 2021

नदिया ! तू रहना जल से भरी - लघु कविता

 चित्र -- सरस्वती  उद्गम स्थल 
*************विश्व जल  दिवस  पर ********

***प्रार्थना हर उस नदी के लिए जो अपने क्षेत्र   की गंगा   है***

                            [  लघु कविता -मेरे ब्लॉग मीमांसा से ]

            नदिया ! तू   रहना  जल से भरी,
                सृष्टि  को रखना हरी-भरी । 
                झूमे हरियाले तरुवर  तेरे तट  
                तेरी ममता की रहे  छाँव  गहरी। 
                  
                 देना मछली को  घर नदिया ,
                 प्यासे  ना रहे नभचर  नदिया  । 
                 अन्नपूर्णा बन - खेतों को 
                 अन्न - धन से देना भर नदिया । 
                               

                हों प्रवाह सदा अमर तेरे ,
                बहना अविराम  , न होना क्लांत । 
                कल्याणकारी  ,सृजनहारी तुम 
                रहना शांत  ,ना होना आक्रांत । 
    
               पुण्य-तट   तू सरस , सलिल ,
              जन-कल्याणी अमृतधार निर्मल । 
              संस्कृतियों  की पोषक तुम ,
              तू ही सोमरस  ,पावन  गंगाजल  । 
 


विशेष रचना

सब गीत तुम्हारे हैं

  तुम्हारी यादों की  मृदुल  छाँव में  बैठ सँवारे  हैं  मेरे पास कहाँ कुछ था  सब गीत तुम्हारे हैं | मनअम्बर पर टंका हुआ है, ढाई  आखर  प्रेम  ...