समर्थक

शनिवार, 29 सितंबर 2018

नेह - तूलिका -कविता




सुनो !   सखा- ले   नेह - तूलिका -
 रंग दो मन की कोरी चादर
 हरे ,गुलाबी ,  लाल , सुनहरी 
 रंग इठलायें  जिस पर  खिलकर !!

 सजे  सपने इन्द्रधनुष के   -
 नीड- नयन     से मैं   निहारूं 
सतरंगी आभा पर इसकी -
तन -मन मैं  अपना     वारूँ
बहें  नैन -जल कोष  सहेजे--
 मुस्काऊँ  नेह -अनंत पलक  भर !!
  
स्नेहिल सन्देश   तुम्हारे -
 नित शब्दों में  तुमसे मिल लूं   -
 यादों के गलियारे  भटकूँ -
फिर से  बीते हर  पल  जी लूं  ;
डूबूं आकंठ उन  घड़ियों में -
 दुनिया की हर सुध  बिसराकर

   अनंत मधु मिठास रचो तुम
आहत मन की आस रचो तुम
रचो प्रीत उत्सव कान्हा बन -
 जीवन  का मधुमास रचो तुम 
  खिलो कंवल  बन   मानसरोवर  
 सजो  अधर   चिर हास तुम  बनकर !!!!!!!!!
चित्र -- पञ्च लिंकों से साभार --  
===============================================
धन्यवाद  शब्दनगरी ------- 

रेणु जी बधाई हो!,

आपका लेख - (नेह तुलिका -- ) आज के विशिष्ट लेखों में चयनित हुआ है | आप अपने लेख को आज शब्दनगरी के मुख्यपृष्ठ (www.shabd.in) पर पढ़ सकते है | 
===============================================================

  


शनिवार, 22 सितंबर 2018

तृष्णा मन की - कविता

Image result for  फूल   के चित्र
 मिले  जब  तुम अनायास -
 मन मुग्ध    हुआ  तुम्हें  पाकर  ;
 जाने थी कौन तृष्णा  मन की - 
जो छलक गयी अश्रु बनकर   ? 

 हरेक     से मुंह मोड़ चला -
  मन तुम्हारी  ही   ओर चला
 अनगिन    छवियों में उलझा -
  तकता   हो भावविभोर चला-
 जगी भीतर  अभिलाष  नई-
 चली ले उमंगों की नयी डगर  ! !

प्राण स्पंदन हुए कम्पित,
जब सुने स्वर तुम्हारे सुपरिचित ;
जाने ये भ्रम था या तुम  वो  ही थे-
 सदियों से  थे  जिसके   प्रतीक्षित;
 कर  गये शीतल- दिग्दिगंत   गूंजे- 
 तुम्हारे ही    वंशी- स्वर मधुर !!



 डोरहीन   ये  बंधन  कैसा ?
यूँ अनुबंधहीन     विश्वास  कहाँ ?
  पास नही    पर  व्याप्त मुझमें
 ऐसा जीवन  -  उल्लास  कहाँ ?
 कोई गीत  कहाँ मैं  रच पाती ? 
तुम्हारी रचना ये शब्द प्रखर !
------------------------------
धन्यवाद शब्दनगरी 

रेणु जी बधाई हो!,

आपका लेख - (तृष्णा मन की - ) आज के विशिष्ट लेखों में चयनित हुआ है | आप अपने लेख को आज शब्दनगरी के मुख्यपृष्ठ (www.shabd.in) पर पढ़ सकते है | 
धन्यवाद, शब्दनगरी संगठन

===============================================

शनिवार, 8 सितंबर 2018

तुम्हें समर्पित सब गीत मेरे--

Image result for चमेली के चित्र
मीत कहूं ,मितवा कहूं ,
क्या कहूं  तुम्हें   मनमीत मेरे ?
 नाम तुम्हारे ये शब्द  मेरे
 तुम्हें समर्पित सब गीत मेरे !!


 हर बात  कहूं  तुमसे मन की  -

 कह अनंत सुख पाऊँ मैं ,
 निहारूं नित मन- दर्पण में  -
   तुम्हें  स्व -सम्मुख   पाऊँ मैं;
सजाऊँ  ख्वाब नये  तुम संग -
 भूल, ये  गीत -अतीत मेरे  !!

सृष्टि में जो ये प्रणय का
अदृश्य  सा महाविस्तार है -
जो युगों से है अपना -
 वही इसका दावेदार है --
बंधने नियत थे तुम संग -
जन्मों के बंध पुनीतमेरे !!
  
अनुराग बन्ध में सिमटी मैं 
यूँ ही पल- पल जीना  चाहूं ,
सपन- वपन कर डगर पे साथी -
संग तुम्हारे चलना चाहूं ;
 तेरे प्यार  से हुए हैं जगमग -
ये नैनों के दीप मेरे  !!
 नाम तुम्हारे हर  शब्द  मेरे
   तुम्हें  समर्पित सब गीत मेरे !!!!!!!!!
==================================
 धन्यवाद शब्दनगरी --------

रेणु जी बधाई हो!,

आपका लेख - (तुम्हे समर्पित सब गीत मेरे -- कविता ) आज की सर्वश्रेष्ठ रचना के रूप में चयनित हुआ है | आप अपने लेख को आज शब्दनगरी के मुख्यपृष्ठ (www.shabd.in) पर पढ़ सकते है | 
धन्यवाद, शब्दनगरी संगठन
======================
  

विशेष रचना

क्षमा करना हे श्रमवीर!

औरंगबाद के दिवंगत   श्रमवीरों के नाम --        ऐसे सोये- सोते ही रहे- -- , भला! ऐसी भी क्या आँख लगी ? पहचान सके ना मौत कीआहट-   अ...