मेरी प्रिय मित्र मंडली

सोमवार, 22 मार्च 2021

नदिया ! तू रहना जल से भरी - लघु कविता

 चित्र -- सरस्वती  उद्गम स्थल 
*************विश्व जल  दिवस  पर ********

***प्रार्थना हर उस नदी के लिए जो अपने क्षेत्र   की गंगा   है***

                            [  लघु कविता -मेरे ब्लॉग मीमांसा से ]

            नदिया ! तू   रहना  जल से भरी,
                सृष्टि  को रखना हरी-भरी । 
                झूमे हरियाले तरुवर  तेरे तट  
                तेरी ममता की रहे  छाँव  गहरी। 
                  
                 देना मछली को  घर नदिया ,
                 प्यासे  ना रहे नभचर  नदिया  । 
                 अन्नपूर्णा बन - खेतों को 
                 अन्न - धन से देना भर नदिया । 
                               

                हों प्रवाह सदा अमर तेरे ,
                बहना अविराम  , न होना क्लांत । 
                कल्याणकारी  ,सृजनहारी तुम 
                रहना शांत  ,ना होना आक्रांत । 
    
               पुण्य-तट   तू सरस , सलिल ,
              जन-कल्याणी अमृतधार निर्मल । 
              संस्कृतियों  की पोषक तुम ,
              तू ही सोमरस  ,पावन  गंगाजल  । 
 


46 टिप्‍पणियां:



  1. हों प्रवाह सदा अमर तेरे ,
    बहना अविराम , न होना क्लांत ;
    कल्याणकारी ,सृजनहारी तुम
    रहना शांत ,ना होना आक्रांत ,!!... वाह !रेणु जी,नदी को आशीर्वाद भी दिया और लगे हाथ वरदान भी मांग लिया, भावभीने शब्दों की सुंदर चित्रमाला सी दिखती,कलकल करती नदी और उसके समक्ष प्रार्थना करतीं आप ,सुंदर रचना ,सादर शुभकामनाएं ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी आत्मीयता भरी, मधुर प्रतिक्रिया के लिए सस्नेह आभार जिज्ञासा जी ❤❤🙏🌹🌹

      हटाएं
  2. आदरणीया मैम, अत्यंत सुंदर प्यारी सिर रचना। नदी तो हम सब की माँ है और युगों से मानव सभ्यता की पोषक रही है। नदी से आपकी यह प्रार्थना बहुत प्यारी और भावपूर्ण है। इसे किसी विद्यालय की पाठ्यपुस्तक में छपवाने का प्रयास कीजिये, मैं तो इस बात से ही उत्साहित हो जाती हूँ कि जब स्कूल के बच्चे आपकी कविता पढ़ेंगे तो कितने आनंदित होंगे। आपकी सभी बाल कविताएँ उनका प्रिय पाठ बन जाएँगी। सुंदर रचना के लिए हार्दिक आभार व आपको प्रणाम।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय अनन्ता, ये तुम्हारा स्नेह है बस। तुम्हें मासी की हर बात प्रिय है। बहुत- बहुत प्यार और शुभकामनाएं तुम्हारे इस अतुलनीय स्नेह के लिए🌹🌹 ❤❤

      हटाएं
  3. सुंदर कविता है आपकी रेणु जी ‌- आबालवृद्ध सभी के लिए - मनमोहक भी, प्रेरक भी ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार और अभिनंदन जितेंद्र जी 🙏🙏💐💐

      हटाएं
  4. बेहद पावन,गंगा जैसी अमृततुल्य शुभ प्रार्थना रची है दी आपने।
    ----
    आपकी रचना पढ़कर उठे प्रश्न हैं जो मन में लिख रही हूँ
    ----

    कैसे रहेंगी नदियाँ जल से भरी
    हमने मलिन किये पवित्र निर्झरी
    अपने स्वार्थ में पाटते तटबंधों को
    फिर कैसे सिर्फ़ प्रार्थनाओं से खिलेगी
    धरती की हर गली हरी-भरी?

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सच है प्रिय श्वेता, तुम्हारी अनमोल काव्यात्मक टिप्पणी में गूंथा प्रश्न आज की भयावह स्थितियों को देखते हुए स्वाभाविक है। बहुत बहुत आभार स्नेहिल उपस्थिति और सटीक प्रतिक्रिया के लिए🌹🌹🙏 ❤❤

      हटाएं
  5. नदिया ! तू रहना जल से भरी
    सृष्टि को रखना हरी -भरी ,
    झूमे हरियाले तरुवर तेरे तट
    तेरी ममता की रहे छाँव गहरी!!बेहद खूबसूरत रचना सखी 👌👌👌👌

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय अनुराधा जी, हार्दिक आभार और अभिनंदन आपकी भावपूर्ण प्रतिक्रिया के लिए🌹🌹🙏 ❤❤

      हटाएं
  6. चित्र अद्भूत।

    कविता बहुत ही सुंदर। मेरे नाना जी स्नान करते हुए कहते रहते थे "जळ मिल्या तो सब मिल्या
    जळ मिल्या तो रब मिल्या"

    वैसे सरस्वती नदी लुप्तप्राय हो गई है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय रोहित, बहुत बहुत आभार आपका इस सुंदर प्रतिक्रिया के लिए। ये चित्र सरस्वती उदगम स्थल काठगढ जिला यमुनानगर हरियाणा का है जहाँ हम सपरिवार पिछले साल ( मार्च 2020) मेंं गए थे। इस स्थान की खुदाई सैटलाइट चित्र के अनुसार की गयी थी। और बाबा जी सही कहते थे,कि------ जळ मिल्या तो सब मिल्या जळ मिल्या तो रब मिल्या ------
      जीवन का शाश्वत सत्य है कि मानव खाने के बिना बहुत दिन रह सकता है, जल के बिना कुछ घंटे भी नहीं। । सरस्वती विलुप्त है तभी तो उसकी खोज जारी है। उसी के लिए कोशिशें जारी हैं। ज्यादा तो पता नहीं पर अभी तो उदगम् स्थल पर ये ही कुंड है । स्नेह के साथ 💐💐🙏💐''

      हटाएं
  7. आपकी पवित्रतम प्रार्थना में हम भी हृदय से सम्मिलित हैं । अति सुन्दर भाव एवं सृजन के लिए हार्दिक बधाई ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार और अभिनंदन प्रिय अमृता जी 🌹🌹🙏❤❤

      हटाएं
  8. उत्तर
    1. सुस्वागतम और हार्दिक आभार और अभिनंदनम आदरणीय आलोक जी🙏🙏 💐💐🎂

      हटाएं
  9. हों प्रवाह सदा अमर तेरे ,
    बहना अविराम , न होना क्लांत ;
    कल्याणकारी ,सृजनहारी तुम
    रहना शांत ,ना होना आक्रांत ,!!---बहुत ही अच्छी रचना और गहरे भाव समेटे हुए। आज की आवश्यकता है नदी और पानी। बधाई रेणु जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय संदीप जी , हार्दिक आभार आपकी सार्थक प्रतिक्रिया का |

      हटाएं
  10. हों प्रवाह सदा अमर तेरे ,
    बहना अविराम , न होना क्लांत ;
    कल्याणकारी ,सृजनहारी तुम
    रहना शांत ,ना होना आक्रांत ,!!

    बहुत सुंदर सृजन सखी,जीवनदायनी नदी का ये गान अद्भुत है
    सखी तुम्हारी रचना मेरे रीडिंग लिस्ट में नहीं आ रही,पता नहीं क्या दिक्क्त है। वो तो आज तुम्हारी एक पुरानी रचना पढ़ने के लिए तुम्हारे ब्लॉग पर आई तो देख पाई कि -मैं तो अपनी ही सखी के कविता का आनंद उठाने से वंचित रह गई,कुछ सामाधान हो तो बताना।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय कामिनी , बहुत बहुत आभार सखी | मुझे पता था तुम पढ़ ही लोगी कभी न कभी | जब से नया ब्लॉगर आया है तब से रीडिंग लिस्ट में ब्लॉग के ना आने के ढेरों मामले हैं सखी | मैं तो अब इमेल से फ़ॉलो कर लेती हूँ या फिर अन फ़ॉलो करके दुबारा फ़ॉलो करके देख लो |तुमने पुरानी रचना पढ़ी ये मेरा सौभाग्य है |

      हटाएं
  11. हमेशा की तरह भावों व शब्दों का सौंदर्य बिखेरती रचना मुग्ध करती है। सार्थक सृजन - - साधुवाद सह।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार और अभिनंदन शांतनु जी🙏🙏 💐💐

      हटाएं
  12. वाह, सुंदर सृजन। सरल शब्दों में भावपूर्ण कविता।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हिमकर जी, ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है। रचना पर आपकी प्रतिक्रिया के लिए सस्नेह आभार 🙏🙏💐💐

      हटाएं
  13. वाह!!! ऋग्वेद में नदियों की की गयी स्तुति की प्रतिध्वनि सुनायी देती है। बधाई आऊर आभार!!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मनोबल बढाती प्रतिक्रिया के लिए सादर आभार आदरणीय विश्वमोहन जी 🙏🙏💐💐

      हटाएं
  14. देना मछली को घर नदिया ,
    प्यासे ना रहे नभचर नदिया ;
    अन्नपूर्णा बन - खेतों को
    अन्न - धन से देना भर नदिया !


    हों प्रवाह सदा अमर तेरे ,
    बहना अविराम , न होना क्लांत ;
    कल्याणकारी ,सृजनहारी तुम
    रहना शांत ,ना होना आक्रांत ,!!

    बहुत सुंदर सृजन नदी पर...
    बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं 🙏

    सस्नेह,
    डॉ. वर्षा सिंह

    जवाब देंहटाएं
  15. जल है तो जीवन है । बहुत सुंदर प्रस्तुति ।
    नदियों से इस प्रार्थना में हर मनुष्य को शामिल होना चाहिए ।
    लेकिन मनुष्य ही तो स्वार्थवश नदियों को दूषित करता आया है ।
    संदेश वाहक रचना ।

    तुम भी नदी की तरह
    बस यूं ही बहती रहना
    अपने निर्झर शब्दों से
    कविताएँ रचती रहना ।
    होली की शुभकामनाएँ ।
    सस्नेह

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय दीदी, आपके स्नेहिल उद्गारों से अभिभूत हूँ। आपका स्नेह मिला बहुत खुश हूँ। आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनाएं ❤❤🙏🌹🌹

      हटाएं
  16. हर क्षेत्र की अपनी अपनी गंगा ...
    सच ही लिखा है ... जीवन दाई, प्रवाहमय, सरल जिनके प्रवाह से जीवन चालित होता है ...
    पुन्य, सलिल, पावस हर नदी के हुस्न को बखूबी लिखा है आपने ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय दिगम्बर जी, ब्लॉग पर आपकी प्रोत्साहित करती प्रतिक्रिया के लिए सादर आभार और अभिनंदन आपका 🙏🙏💐💐

      हटाएं

  17. पुण्य तट तू सरस , सलिल ,
    जन कल्याणी अमृतधार -निर्मल ;
    संस्कृतियों की पोषक तुम -
    तू ही सोमरस -पावन गंगाजल ,,,,,,, बहुत सुंदर रचना नदी पर जल ही जीवन है इन्हें साफ़ बनाए रखना हमारी ज़िम्मेदारी है,आपके लेखन को नमन आदरणीया शुभकामनाएँ ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सार्थक प्रतिक्रिया के लिए सादर आभार मधुलिका जी |हार्दिक अभिनन्दन और शुभकामनाएं|

      हटाएं
  18. संदेश देतीं बहुत सुंदर रचना।
    शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  19. हार्दिक आभार और अभिनन्दन प्रिय पम्मी जी |

    जवाब देंहटाएं
  20. नदी के प्रति मुझे विशेष आकर्षण है अौर आपकी इस कविता से तो मानो कलकल छलछल बहती नदिया का दृश्य मेरी आँखों के आगे साकार ही हो गया। अभिनव शब्दों में नदी माता से की गई यह प्रार्थना बहुत सुंदर है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिए `हार्दिक आभार प्रिय मीना |

      हटाएं
  21. सुंदर संदेश देती हुई रचना, जल ही जीवन है, अति उत्तम ,

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार, शुक्रिया प्रिय ज्योति जी 🙏🌹🌹💕💕

      हटाएं
  22. बहुत ही सुन्दर सृजन..सांस्कृतिक ऐतिहासिक एवं भौगोलिक परिपेक्ष्य में नदियों का महत्व हम सभी जानते हैं..आपने कविता के द्वारा प्रेरक संदेश दिया है..

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी स्नेहिल और प्रेरक प्रतिक्रिया के लिए आभारी हूँ प्रिय अर्पिता जी🙏 🌹❤❤🌹

      हटाएं
  23. देना मछली को घर नदिया ,
    प्यासे ना रहे नभचर नदिया ;
    अन्नपूर्णा बन - खेतों को
    अन्न - धन से देना भर नदिया !
    नदी के महत्व को बताती बहुत ही लाजवाब कृति सखी ! मैं भी पढ़ने से वंचित रह गयी अभी तक ....। ये ब्लॉग की समस्याओं का समाधान भी सीखना पड़ेगा। अब बच्चों से मदद लेनी पड़ेगी मुझे तो...वरना मेरी पसंदीदा रचनाएं यूँ ही छूटती रहेंगी...
    हमेशा की तरह बहुत ही लाजवाब एवं मनभावन सृजन।


    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय सुधा जी, आपको रचना पसंद आईं लिखना सार्थक हुआ। सखी, आप बच्चों से तकनीकी चीजें जरूर सीखें क्योंकि कई बार बच्चे किसी वजह से दूर होते हैं तो किसी दिक्कत से बच सकते हैं। आप चाहें तो मेल द्वारा ब्लॉग से जुड़ सकती हैं। आपकी प्रतिक्रिया से ही मेरी रचना पूर्णता प्राप्त करती है। कोटि आभार आपके स्नेह भरे शब्दों का,,,,,🙏💐💐🌷💐

      हटाएं

Yes

विशेष रचना

चाँद नगर सा गाँव तुम्हारा ----- कविता ---

चाँद नगर सा गाँव तुम्हारा   भला ! कैसे पहुँच पाऊँगी मैं ?  पर ''इक रोज मिलूंगी तुमसे  '' कह जी को बहलाऊंगी मैं ! मौन...