फ़ॉलोअर

सोमवार, 18 दिसंबर 2017

तुम्हारा मौन --- कविता --

तुम्हारा   मौन
असह्य हो चुका है  
तुम्हारा ये विचित्र मौन  ,
विरक्त हो जाना तुम्हारा 
रंग , गंध और स्पर्श के प्रति ;
अनासक्त हो जाना - अप्रतिम सौ सौंदर्य के प्रति    !
भावहीन हो बैठ उपेक्षा करना  
संगीत की मधुर स्वर लहरियों की  ,
स्वयं से रूठना और कैद हो जाना  ,
मन की ऊँची दीवारों के बीच 
नहीं है जीवन ----- !

उठो ! खोल दो मन के द्वार !
सुनो गौरैया की चहचहाहट और -
भँवरे की गुनगुनाहट में उल्लास का शंखनाद ! 
देखो बसंत आ गया है  -- - -- 
निहारो रंगों को  , महसूस करो गंध को  ,
जो उन्मुक्त पवन फैला रही है हर दिशा में ----
हर कोने में !
स्पर्श करो  सौंदर्य   को -
जिसमे निहित है जीवन की सार्थकता !
उठो !कि स्पंदन से भरी 
एक मानव देह हो तुम हो  ,
कोई निष्प्राण प्रतिमा नहीं !
तुम्हारे लिए ही बने है ;
रंग , गंध ,  सौंदर्य और संगीत
क्योंकि  तुम्हीं  निमित्त हो  
 सृष्टि में नवजीवन के!! 

संदर्भ---- एक अवसाद ग्रस्त युवा के लिए --- 

44 टिप्‍पणियां:

  1. साकारात्मक भावों को इंगित करती आपकी रचना बेहद उम्दा..
    स्पर्श करो सौदर्य को -
    जिसमे निहित है जीवन की सार्थकता !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय पम्मी जी -- आभारी हूँ आपके अनमोल शब्दों के लिए |

      हटाएं
  2. प्रेरक और सुंदर रचना। बधाई आदरणीय रेणु जी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय पुरुषोत्तम जी -- आपके ये चंद शब्द अनमोल हैं | सादर आभार आपका |

      हटाएं
  3. बहुत सुंदर संदेश !
    तुम्हारे लिए ही बने है ;
    रंग , गंध , सौन्दर्य और संगीत
    क्योंकि तुम्ही निमित्त हो -
    संसार में नवजीवन के!
    अत्यंत खूबसूरत पंक्तियाँ ! मन बार बार चाहेगा इस रचना को पढ़ना । इस सुंदर सृजन हेतु हार्दिक बधाई रेणु जी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय मीना जी -- आपके प्रेरक शब्द मेरी रचना की सार्थकता को बढ़ा रहे हैं | सस्नेह आभार आपका |

      हटाएं
  4. आदरणीया रेणु जी सादर नमन आपकी लेखनी को. एक उत्कृष्ट साहित्यिक रचना के सृजन से आपने नैराश्य के अंधकार में डूबे व्यक्ति को स्नेहमयी शाब्दिक थपकी के साथ उबरने का प्रेरक संदेश दिया है. निस्संदेह यह रचना न जाने कितने घायल और विचलित मन को हालात की पीड़ा से उभरे छालों पर मरहम-सा नर्म एहसास दिलाएगी.
    साधुवाद एवं अभिनन्दन आपका. बधाई एवं शुभकामनायें. लिखते रहिये.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरनीय रविन्द्र जी -- आपके उत्साह बढ़ाते शब्द मेरे लेखन की सार्थकता जताते हैं | आभारी हूँ कि आपने रचना को सही ढंग से परिभाषित कर इस में व्याप्त चिंतन को अपने शब्दों से विस्तार दिया है | सृष्टि के नायक अपार संभावनाओं से भरे युवा जब अवसाद की भयानक चपेट में आते हैं तो उनके जीवन की खुशियां तो संदिग्ध हो ही जाती हैं -परिवार की समस्त खुशियाँ दाव पर लग जाती हैं और वह एक अव्यक्त यंत्रणा से गुजरता है | नियति कहिये या आधुनिक जीवन की अंधी दौड़ के कारण ये बीमारी बहुत भयावह रूप में फैलती जा रही है | इसमें उपचार के दौरान दवा और दुआ के साथ स्नेह एक अहम् भूमिका निभाता है ताकि पीड़ित उससे बाहर आ एक सामान्य जीवन जी सके | आपकी शुभकामनायें अनमोल हैं | सादर

      हटाएं
  5. वाह्ह्ह.....प्रिय रेणु जी,
    बेहद प्रेरक और दिलकश रचना है। हताशा में डूबे मन का जीवन के प्रति अनुराग जगाने का सुंदर और सार्थक सृजन।
    शब्द-शब्द स्नेह प्रवाहित करती हुई।
    बहुत अच्छी लगी आपकी रचना।
    बधाई स्वीकार कीजिए और ढेरों शुभकामनाएँ भी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय श्वेता जी - आपने रचना के अंतर्निहित भाव को पहचाना -- मेरा लिखना सार्थक हुआ | सस्नेह आभार आपको |

      हटाएं
  6. रेणु जी प्रेणा देती हुई आपकी रचना

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय शकु-- आपके स्नेह भरे शब्दों के लिए सस्नेह आभार आपका |

      हटाएं
  7. जीवन में कई बार ऐसे अवसाद के पल आते हैं और ऐसे में इन शब्दों की इस गहरे अहासास की सबसे ज़्यादा ज़रूरत होती है ... सुंदर प्रेरणा देरी रचना ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय दिगम्बर जी -- रचना का उद्देश्य यही है | आपने इसके भाव पहचाने -- मेरा लेखन सार्थक हुआ | सादर , सस्नेह आभार आपका

      हटाएं
  8. सकारात्मक सोच को अभिव्यक्त करते बहुत ख़ूबसूरत अहसास...बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  9. आदरणीय कैलाश जी -- हार्दिक स्वागत है आपका मेरे ब्लॉग पर | आपका मेरे ब्लॉग पर आना और मेरी रचना पढ़ना मेरा परम सौभाग्य है | सराहना भरे आपके प्रेरक शब्द अनमोल हैं मेरे लिए | सादर आभार और नमन आपको |

    जवाब देंहटाएं
  10. मंजिलें और भी है,चल उठ बड़ चल की तर्ज पर लिखी आपकी रचना ... निराशा के गर्त में खो गए, अवसाद ग्रस्त युवा के लिए मानसिक मलहम का प्रयोग करती है,प्रेरक विचारों के साथ आगे बढ़ने की उम्मीद जगाती उम्दा रचना ...!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय अनु जी -- रचना के मर्म पर आपने चिंतन किया -- बहुत आभारी हूँ आपकी | सस्नेह --

      हटाएं
  11. नमस्ते, आपकी यह प्रस्तुति BLOG "पाँच लिंकों का आनंद"

    ( http://halchalwith5links.blogspot.in ) में

    गुरूवार 21-12-2017 को प्रकाशनार्थ 888 वें अंक में सम्मिलित की गयी है। प्रातः 4:00 बजे के उपरान्त प्रकाशित अंक चर्चा हेतु उपलब्ध हो जायेगा।

    चर्चा में शामिल होने के लिए आप सादर आमंत्रित हैं, आइयेगा ज़रूर।

    सधन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  12. जी रेणु जी सुप्रभात... आपकी कविता पढ़ने दोबारा चली आई .. बधाई एवं शुभकामनाएं बस आप लिखते रहें.!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय अनु ------ आपका ब्लॉग पर हर बार स्वागत है | सस्नेह आभार आपका अपना कीमती समय ब्लॉग को देने के लिए |

      हटाएं
  13. उत्तर
    1. आदरणीय यशोदा दीदी -- सादर आभार और नमन आपको |

      हटाएं
  14. प्रेरणादायक रचना . सकारात्मकता की ओर बढ़ने का आह्वान .

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय संगीता जी -- आपका मेरे ब्लॉग पर हार्दिक स्वागत है | आपके प्रेरक शब्द अनमोल हैं | सादर आभार |

      हटाएं
  15. जीवन के प्रति सकारात्मक रुझान प्रकट करते भावों से सजी अत्यन्त सुन्दर‎ रचना‎.रेणु जी बहुत सारी बधाई कुशल सृजन के लिए‎ .

    जवाब देंहटाएं
  16. आदरणीया रेणु जी प्रणाम। आपकी रचना पढ़ी, सार्थकता की बुलंदियों को स्पर्श करती ,मानव को एक आशा की किरण देती। सत्य कहा आपने जीवन और भी हैं निरंतर चलना हमारा परम कर्तव्य। यही है सारभौमिक सत्य। इस अनूठी रचना हेतु आपको नमन।




    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय ध्रुव -- आपके प्रेरक शब्द मेरी रचना की सार्थकता के परिचायक हैं सबह आभार आपको |

      हटाएं
  17. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है https://rakeshkirachanay.blogspot.in/2017/12/49.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  18. सादर आभार आदरणीय राकेश जी |

    जवाब देंहटाएं
  19. तुम्हारे लिए ही बने है ;
    रंग , गंध , सौन्दर्य और संगीत
    क्योंकि तुम्ही निमित्त हो -
    सृष्टि में नवजीवन के!
    वाह !!!बहुत खूब सखी ,तुम्हारे ये शब्द तो निर्जीव में भी प्राण फुक दे ,स्नेह

    जवाब देंहटाएं
  20. उठो ! खोल दो मन के द्वार !
    सुनो गौरैया की चहचहाहट और -
    भँवरे की गुनगुनाहट में उल्लास का शंखनाद ! !
    देखो बसंत आ गया है ---, वाह बहुत ही बेहतरीन रचना रेणु जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनुराधा बहन हार्दिक आभार और शुक्रिया |

      हटाएं
  21. उठो ! खोल दो मन के द्वार !
    सुनो गौरैया की चहचहाहट और -
    भँवरे की गुनगुनाहट में उल्लास का शंखनाद ! !
    देखो बसंत आ गया है ---,
    निहारो रंगों को -महसूस करो गंध को -
    जो उन्मुक्त पवन फैला रही है हर दिशा में -...प्रिय रेणु बहन बहुत ही सुन्दर रचना 👌

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय अनिता जी - ब्लॉग पर आपके सस्नेह सहयोग से बहुत ख़ुशी होती है | हार्दिक आभार और धन्यवाद सखी |

      हटाएं

Yes

विशेष रचना

चाँद नगर सा गाँव तुम्हारा ----- कविता ---

चाँद नगर सा गाँव तुम्हारा   भला ! कैसे पहुँच पाऊँगी मैं ?  पर ''इक रोज मिलूंगी तुमसे  '' कह जी को बहलाऊंगी मैं ! मौन...