समर्थक

बुधवार, 27 दिसंबर 2017

समय साक्षी रहना तुम --- कविता --

Image result for नव वर्ष चित्र

 अपने अनंत प्रवाह में बहना तुम ,
 पर समय साक्षी रहना   तुम !!

उस पल के-  जो  सत्य सा अटल ,
 ठहर गया है भीतर   गहरे ;
रूठे सपनों से मिलवा जिसने -
भरे पलकों में रंग सुनहरे ;
यदा -कदा  बैठ साथ मेरे  -
उन यादों के हार पिरोना तुम 

जिसमें  जाने  कहाँ  से आया -
जन्मों की ले पहचान कोई ,
 विस्मय सा भर जीवन में -
कर गया हैरान कोई !!  
मौन आराधन सा वो  मेरा -
उस संग जन्मों  का संग बोना तुम

आत्मा की  अतल गहराइयों में -
जो  भरेगा उजास  नित नित  ,
गुजर जायेंगे   दिन महीने-
 आँखों से ना होगा ओझल  किंचित ;
हो ना जाऊं तनिक मैं विचलित 
प्राणों में  अनत धीरज  भर देना तुम !!

अपने अनंत प्रवाह में बहना तुम ,
 पर समय साक्षी रहना   तुम !!!!!!!!!!!!!!

 चित्र--- गूगल से साभार -- 

58 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. आदरणीय विश्वमोहन जी -- सादर आभार आपको |

      हटाएं
  2. आत्मा की अतल गहराइयों में -
    जो भरेगा उजास नित नित ,
    दिन महीने गुजर जायेगे -
    आँखों से ओझल न होगा किंचित ;
    हो ना जाऊं तनिक मैं विचलित
    प्राणों में अनत धीरज भर देना तुम !!

    अतुलनीय रचना आपकी रेणु जी.....अपने अनंत प्रवाह में बहना तुम,
    पर समय साक्षी रहना तुम !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय पुरुषोत्तम जी ---आपकी प्रेरक सराहना अनमोल है-- सादर आभार |

      हटाएं
  3. आप की रचना को शुक्रवार 29 दिसम्बर 2017 को लिंक की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  4. ब्लॉग जगत के श्रेष्ठ रचनाओं का संगम "लोकतंत्र" संवाद ब्लॉग पर प्रतिदिन लिंक की जा रही है। आप सभी पाठकों व रचनाकारों से अनुरोध है कि आप अपनी स्वतंत्र प्रतिक्रिया एवं विचारों से हमारे रचनाकारों को अवगत करायें ! आप सभी गणमान्य पाठकों व रचनाकारों के स्वतंत्र विचारों का ''लोकतंत्र'' संवाद ब्लॉग स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर‎ भावाभिव्यक्ति रेणु जी .

    जवाब देंहटाएं
  6. दिल को छूती...प्रेरणादायक रचना

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय नीतू -- आपके स्नेह भरे शब्द अनमोल हैं --- आभार !!!

      हटाएं
  7. समय की ताकत और महत्व बताती एक रचना.
    नव वर्ष की शुभकामनायें.

    जवाब देंहटाएं
  8. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है http://rakeshkirachanay.blogspot.in/2018/01/50.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय राकेश जी सादर सस्नेह आभार आपका |

      हटाएं
  9. Happy New year, This new year become published author in just 30 days, send request :http://www.bookbazooka.com/

    जवाब देंहटाएं
  10. खूबसूरत प्रस्तुति नव वर्ष की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. संजय जी -- आपकी सराहना के लिए सादर सस्नेह आभार == और क्षमा के साथ अत्यंत देर से आपको नव वर्ष और मकर संक्रांति की हार्दिक मंगल कामनाएं और बधाई |

      हटाएं
  11. आपकी लिखी रचना  "पांच लिंकों का आनन्द में" मंगलवार 2जनवरी2018 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय पम्मी जी -- आभारी हूँ आपकी कि आपने अपनी पसंदीदा रचनाओं में मेरी रचना को स्थान दिया |

      हटाएं
  12. खूबसूरत रचना...
    वाह!!!
    पर समय साक्षी रहना तुम
    लाजवाब

    जवाब देंहटाएं
  13. वाह
    बहुत सुंदर और प्रभावी रचना
    बधाई
    सादर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय सर -- मेरे लेखन की संजीवनी हैं आपके अनमोल शब्द | सादर आभार और नमन --

      हटाएं
  14. सुंदर परवाह निरंतर .. प्रेम उर समय साक्षी हैं इस
    रचना और नव वर्ष के ...
    शुभकामनाएँ ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरनीय दिगम्बर जी -- मोहक शब्दों भरी आपकी सराहना अनमोल है | आपको भी नववर्ष की हार्दिक की शुभ कामनाएं और बधाई |

      हटाएं
  15. बहुत सुंदर ! समय से बेहतर तो कोई साक्षी हो ही नहीं सकता। नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ प्रिय रेणु बहन

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार और शुभकामनाएं आदरणीय मीना बहन --

      हटाएं
  16. उत्तर
    1. आदरणीय आशुतोष जी -- सबसे पहले मैं स्वागत करती हूँ आपका अपने ब्लॉग पर !! रचना की सराहना के लिए आपकी आभारी हूँ | मेरा लेखन सफल हुआ | सहयोग बनाये रखें |

      हटाएं
  17. आपको सूचित करते हुए बड़े हर्ष का अनुभव हो रहा है कि ''लोकतंत्र'' संवाद ब्लॉग 'मंगलवार' ९ जनवरी २०१८ को ब्लॉग जगत के श्रेष्ठ लेखकों की पुरानी रचनाओं के लिंकों का संकलन प्रस्तुत करने जा रहा है। इसका उद्देश्य पूर्णतः निस्वार्थ व नये रचनाकारों का परिचय पुराने रचनाकारों से करवाना ताकि भावी रचनाकारों का मार्गदर्शन हो सके। इस उद्देश्य में आपके सफल योगदान की कामना करता हूँ। इस प्रकार के आयोजन की यह प्रथम कड़ी है ,यह प्रयास आगे भी जारी रहेगा। आप सभी सादर आमंत्रित हैं ! "लोकतंत्र" ब्लॉग आपका हार्दिक स्वागत करता है। आभार "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    जवाब देंहटाएं
  18. बहुत ही सुंदर
    बेहतरीन भावभियक्ति

    जवाब देंहटाएं
  19. वाह!!बहुत सुंदर भावभिव्यक्ति प्रिय सखी रेनू । नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सस्नेह आभार शुभा बहन |आपको भी नववर्ष मंगलमय हो |

      हटाएं
  20. यदा -कदा बैठ साथ मेरे -उन यादों के हार पिरोना तुम
    पर समय साक्षी रहना तुम.............,लाजबाब सखी ,क्या तारीफ करू तुम्हारी ,एक एक शब्द दिल में उतरता हुआ ,मुझे कविता लिखने नहीं आता लेकिन तुम्हारी गीतों को पढ़कर दिल में चाह जगती है कि काश मैं भी अपनी भावनाओ को गीतों का रूप दे पाती ,तुम्हारे शब्द मेरी ही भावनाओ को उकेरते है ,बहुत बहुत बहुत प्यारी रचना ,तुम्हारी कलम यूँ ही चलती रहे ,स्नेह सखी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय कामिनी -- ये तुम्हारा निर्मल स्नेह है सखी |सस्नेह आभार इन ऊर्जा भरे शब्दों के लिए |

      हटाएं
  21. बहुत सुंदर रचना. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय मुकुल जी -- सस्नेह स्वागत है आपका ब्लॉग पर | आपको भी मेरी शुभकामनायें और आभार |

      हटाएं
  22. हो ना जाऊं तनिक मैं विचलित
    प्राणों में अनत धीरज भर देना तुम !!

    अपने अनंत प्रवाह में बहना तुम ,
    पर समय साक्षी रहना तुम !!
    बहुत ही सुंदर मनोभाव,रेणु दी।

    जवाब देंहटाएं
  23. हो ना जाऊं तनिक मैं विचलित
    प्राणों में अनत धीरज भर देना तुम !!

    अपने अनंत प्रवाह में बहना तुम ,
    पर समय साक्षी रहना तुम !!
    बेहतरीन रचना रेनू जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय वन्दना जी -- मेरे ब्लॉग पर आपका आना मेरा सौभाग्य है |सस्नेह आभार आपका |

      हटाएं
  24. बहुत सुन्दर रेणुबाला जी,
    बहुत ही निश्छल मन से रची गयी उच्च विचारों से युक्त सोद्देश्यपूर्ण कविता !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय गोपेश जी , आपका आशीर्वाद पाकर मन आह्लादित है | देर से प्रतिउत्तर के लिए क्षमा प्रार्थी हूँ |

      हटाएं
  25. अपने अनंत प्रवाह में बहना तुम ,
    पर समय साक्षी रहना तुम
    बहुत सुंदर दिल को छूती रचना।

    जवाब देंहटाएं
  26. भावों का सुंदर प्रवाह! अंतः सलिला न होकर भी सदा उपस्थिति देती है सरस्वती की तरह वैसे ही कुछ न लिखा सुधा भी परिलक्षित है लेखन में ,कितना मृदुल कितना स्निग्ध ।
    बहुत बहुत सुंदर रेणु बहन।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सस्नेह आभार प्रिय कुसुम बहन |आपका स्नेह अनमोल है |

      हटाएं
  27. बहुत सुन्दर रेणू जी,भावों में मोहकता शब्दों में मृदुलता 👌👌आपकी लेखनी का कमाल है

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार उर्मिला जी | मेरा सौभाग्य आपने मेरे ब्लॉग पर आकर मुझे प्रोत्साहित किया |

      हटाएं
  28. पर समय साक्षी रहना तुम, वाह वाह और वाह

    जवाब देंहटाएं
  29. सादर आभार आदरणीय दीदी | आपकी वाह किसी पुरस्कार से नहीं |

    जवाब देंहटाएं

Yes

विशेष रचना

क्षमा करना हे श्रमवीर!

औरंगबाद के दिवंगत   श्रमवीरों के नाम --        ऐसे सोये- सोते ही रहे- -- , भला! ऐसी भी क्या आँख लगी ? पहचान सके ना मौत कीआहट-   अ...