मेरी प्रिय मित्र मंडली

मंगलवार, 22 फ़रवरी 2022

कहो शिव!

कहो शिव! क्यों लौट गए खाली

मुझ अकिंचन के द्वार से तुम ?

क्यों कर गए वंचित पल में,

करुणा के उपहार से तुम! 


दावानल-सी  धधक रही,

विचलित उर में वेदना!

निर्बाध हो कर रही भीतर

खण्डित धीरज और चेतना!

सर्वज्ञ हो कर  अनभिज्ञ   रहे,

मेरे भीतर के हाहाकार से तुम!


आए जब तुम आँगन मेरे, 

क्यों न तुम्हें पहचान सकी!

तुम्हीं थे चिर-प्रतीक्षित पाहुन

 थी मूढ़  बड़ी ,ना जान सकी!

क्यों ठगा मुझे यूं छल-बल से

भर गए क्षणिक विकार से तुम!


एक भूल की न मिली क्षमा,

कर-कर हारी हरेक जतन!

कैसे इस ग्लानि से  उबरूं ? 

बह चली अश्रु की गंग-जमन!

ये क्लांत प्राण हों जाएं शांत,

जो कर दो मुक्त उर-भार से तुम!







44 टिप्‍पणियां:

  1. ॐ नमः शिवाय 🙏🙏
    शिव से आज ऐसी शिकायत भला क्यों ? मन के उद्विग्न होने से ये ज़रूरी नहीं कि शिव तुमको उसी अवस्था में खाली छोड़ गए । क्यों कि मन के भावों को तुमने शब्दप्रवाह में बहने के लिए छोड़ दिया है तो अवश्य ही उर का हाहाकार शांत हुआ होगा ।
    फिर भी एक भक्त ही भगवान से प्रश्न कर सकता है । गहन अभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय दीदी, आपकी इस त्वरित प्रतिक्रिया से मन को बहुत सुकून और खुशी मिली। उद्विग्नता की स्थिती में कुछ प्रश्न उमड़े और अभिव्यक्ति के रूप में सब लिखा गया। हार्दिक आभार आपकी स्नेहिल उपस्थिति का। प्रणाम और पुनः आभार 🌷🌷❤️❤️🙏

      हटाएं
  2. बहुत बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति आहत अन्तर मन की

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार और प्रणाम आदरणीय आलोक जी। आपकी उपस्थिति सदैव विशेष है मेरे लिए 🙏🙏💐💐

      हटाएं
  3. रेणु दी,जिनके मन में ईश्वर के प्रति सच्ची श्रद्धा होती है वो अपनी हर बात चाहे वह शिकायत ही क्यों न हो ईश्वर से ही शेयर करते है। दी सच मे हम कोई बात जब ईश्वर से शेयर करते है न तब दिल को एक अलग ही तरह का सकून मिलता है। यह मैं अपने अनुभव से कह सकती हूँ।
    आपने तो अपनी व्यथा को शब्दों का अमली जामा भी पहना दिया तो अवश्य ही अब आपका मन शांत हो गया होगा। ईश्वर से प्रार्थना करती हूं कि आप हमेशा हंसती रहे। एक बार मेरे कहने पर हंसिए न। अं ह ऐसे नहीं खुल कर। हैं ऐसे।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय ज्योति जी, आपकी इस स्नेहिल थपकी से मन भीग गया। आपने सच कहा, कि अपनी व्यथा ईश्वर से साझा करने के बाद बहुत सुकून मिलता है। आपकी उपस्थिति और स्नेह से मन को बहुत अच्छी अनुभूति हुई। और निश्चित रूप से एक हंसी आती फूट पड़ी अंतर्मन से😀😀😀😃 बहुत-बहुत आभार इस आत्मीयता के लिए 😀😀❤️🌷🌷🙏

      हटाएं
  4. इश्वर के प्रति समर्पण ही ऐसी भावना को जन्म देता है ... उसके प्रति प्रेम, क्षोभ, सुख, दुःख सब खोल के रख देता है इंसान ... उसकी शिकायत भी उसी से, अपनी शिकायत भी उसी से ...
    यही तो शिव हो जाना है ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार और अभिनंदन आपका दिगम्बर जी।🙏🙏🌷🌷

      हटाएं

  5. जटा में गंगा खाती बल है।
    नंदीश्वर, नीरज, निर्मल हैं।।
    विषधर कंठ बने माला हैं।
    ग्रीवा गिरीश गरल हाला हैं।।

    भक्त पुकारे मन डोले हैं।
    अनिरुद्ध, अभदन भोले हैं।।
    ॐ कार की उमा काया हैं।
    शिव तो बस उनकी छाया हैं।।

    पार कराते सागर भव से।
    हो जाते शक्ति बिन शव-से।।
    मुख मद्धिम न करो भवानी।
    अर्द्धनारीश्वर औघड़ दानी।।

    तुम श्रद्धा विश्वास हैं अंतक।
    अर्हत, अत्रि, अनघ, परंतप।।
    गौरी से शंकर नहीं छूटेंगे।
    भोले भला तुमसे रूठेंगे!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय विश्वोहन जी, आपकी उपस्थिति और भगवान शिव को समर्पित इस भावमयी काव्यात्मक प्रतिक्रिया के लिए क्या लिखूं?? निशब्द हूं! इतनी सुन्दर और भावपूर्ण शिव-अभ्यर्थना के लिए हार्दिक आभार और अभिनंदन आपका 🙏🙏💐🌷

      हटाएं
  6. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 24.02.22 को चर्चा मंच पर चर्चा - 4351 में दिया जाएगा| ब्लॉग पर आपकी टिप्पणी चर्चाकारों की हौसला अफजाई करेगी
    सादर धन्यवाद
    दिलबाग

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार चर्चा मंच और दिलबाग जी।💐💐🌷💐🙏

      हटाएं
  7. बहुत सुन्दर भावपूर्ण कविता !
    भोले भंडारी में दया, क्षमा और भक्तों के प्रति अपार ममता है.
    फिर कवि-ह्रदय भक्त पर तो उनका वरद-हस्त सदैव रहेगा.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी गोपेश जी, आप जैसे उदारमना लोगो से मिलना भी आदिशिव की कृपा ही है। कोटि आभार आपका 🙏🙏

      हटाएं
  8. भावों से ओतप्रोत बहुत ही भावपूर्ण रचना

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया और प्यार प्रिय मनीषा 🌷🌷❤️❤️

      हटाएं
  9. आए जब तुम आँगन मेरे,

    क्यों न तुम्हें पहचान सकी!

    तुम्हीं थे चिर-प्रतीक्षित पाहुन

    थी मूढ़ बड़ी ,ना जान सकी!

    क्यों ठगा मुझे यूं छल-बल से

    भर गए क्षणिक विकार से तुम... वाह!बहुत ही सुंदर हृदयस्पर्शी सृजन आदरणीय रेणु दी।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया और आभार प्रिय अनीता 🌷🌷❤️🙏

      हटाएं
  10. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार २५ फरवरी २०२२ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया और आभार प्रिय श्वेता 🌷🌷❤️🙏

      हटाएं
  11. उत्तर
    1. आभार और प्रणाम प्रिय दीदी 🙏🙏🌷🌷❤️❤️

      हटाएं
  12. एक भूल की न मिली क्षमा,
    कर-कर हारी हरेक जतन!
    कैसे इस ग्लानि से उबरूं ?
    अप्रतिम
    सादर...

    जवाब देंहटाएं
  13. कहो शिव! क्यों लौट गए खाली
    मुझ अकिंचन के द्वार से तुम ?
    क्यों कर गए वंचित पल में,
    करुणा के उपहार से तुम!
    भगवान शिव को समर्पित भक्तिमय भावपूर्ण कृति ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मीना जी ,आपकी भावपूर्ण प्रतिक्रिया के लिए आभारी हूँ 🙏🙏

      हटाएं
  14. हृदय को द्रवित करती हुई आर्त्त पुकार अवश्य सुनी जाती है। श्रद्धा से आप्लावित भाव तिरोहित हो रहा है। अति सुन्दर।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार और प्यार प्रिय अमृता जी 🙏🙏

      हटाएं
  15. कहो शिव! क्यों लौट गए खाली
    मुझ अकिंचन के द्वार से तुम ?

    ये पहली दो पंक्तियां मुझे आश्चर्य से भर गई रेणु बहन ।
    योगीश्वर द्वार तक आ गये की अनुभूति मात्र ही अलख आनंद है, फिर कैसे स्वयं को
    विचलित या विकार से पीड़ित मानते हो आप, योगीश्वर तो योगेश्वर बाल कृष्ण के द्वार पर गये थे उनके दर्शन करने ,वरना तो भक्त ही उन तक दौड़ लगाते हैं। जिस द्वार शिव आजाए चाहे पहचानों या न पहचानोगे अनंत कल्याणकारी है कि उन दो आंखों ने उनको देखा है।
    पता नहीं क्या लिख गईं हृदय स्पर्शी रचना आपकी पढ़कर।
    वेदना से प्रस्फुटित शब्द गहन हृदय तक उतरते।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय कुसुम बहन,योगेश्वर को पहचानने में जो आँखें विफल रह जाएँ,उनका पश्चाताप क्या कभी कम हो सकता है? हार्दिक आभार मन को छूती हुई इस स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिए 🙏❣

      हटाएं
  16. आध्यात्मिकता से परिपूर्ण उत्कृष्ट रचना। बहुत बधाई रेणु जी ।
    मेरी पंक्तियां इस सुंदर सृजन को समर्पित हैं 👏💐
    वक्ष पे ओढ़े हुए है वो दुशाला
    अंग में भस्मी लपेटे सा दिखे
    अलख सी जलने लगी, चारों दिशा में
    शंखध्वनि करताल भी बजने लगे ।
    डम डमा डम डमरुओं के मधुर धुन पे
    झूम कर के नृत्य सब करने लगे ।।

    गूंजती आवाज़ मेरे कान में,
    आ गए तिरकाल दर्शी द्वार मेरे ।
    देखते वो नयन भर सर्वस्व मेरा
    बंद आँखें हम उन्हें कैसे निहारें ।।

    उठ रही हूं गिर रही हूं लड़खड़ा के
    भागती हूं खोल आंखें दरस को ।
    आज कैसा दिव्य दर्शन दे रहे प्रभु
    भर नहीं पाऊं मैं झोली में सुयश को ।।
    🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय जिज्ञासा जी,आपकी भावपूर्ण शिव वन्दना मूल रचना से कहीं बेहतर है।निशब्द हूँ आपकी आशु-लेखन प्रतिभा के समक्ष।कोटि-कोटि धन्यवाद और आभार इस काव्यात्मक प्रतिक्रिया के लिए।विलम्बित प्रतिउत्तर के लिए क्षमा प्रार्थी हूँ ❣🙏

      हटाएं
  17. सघन पीड़ा में भी, तुमपर से न डिग सका विश्वास
    प्रश्न पूछता है हृदय हजार, नाम जपती शिव ही श्वास
    --------
    प्रिय दी,
    आपकी रचना पढ़कर हर बार निःशब्द ही लौट गयी..बेहद उद्विग्न मन की आर्त अभिव्यक्ति जो शब्दशः महसूस हो रही।

    सस्नेह प्रणाम।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. अखण्ड विश्वास से भरी बहुत सुन्दर और भावपूर्ण पंक्तियाँ प्रिय श्वेता। हार्दिकआभार और स्वागत ❣

      हटाएं
  18. उत्तर
    1. हार्दिक आभार और अभिनंदन मुकेश जी 🙏🙏

      हटाएं
  19. मन की उद्विग्नता को शिव को ही सौंप दीजिए। वे स्वयं हलाहल पीकर जगत को अमृत बाँटते हैं। गंगा का भार जटा में धारण कर लेते हैं ताकि वह भागीरथी आसानी से धरती पर प्रवाहित हो सके एवं मानव मात्र का उससे कल्याण ही हो, कोई हानि ना हो। यदि किसी पीड़ा में डूबकर आपने महादेव को याद किया है, तो वह पीड़ा, वह व्याकुलता तो गई समझो।
    शिव ही जानें शिव की माया!!

    जवाब देंहटाएं
  20. प्रिय मीना, यही कोशिश कर रही हूँ। सच है कि शिव ही जानें शिव की माया! हार्दिक आभार इस भावपूर्ण प्रतिक्रिया के लिए 🙏❣

    जवाब देंहटाएं
  21. सही कहा मीना जी ने शिव ही जाने शिव की माया...
    फिर भी शिव सत्य और सुन्दर सभी रूप एक साथ लिए पधारेंगे फिर कभी आँखें धोखा नहीं खा सकेंगी जिस द्वार में इतना स्वागत और सम्मान हो जिस मन में इतनी आस्था और प्यार हो वहाँ तो शिव स्वयं विराजमान हो जाते हैं बस धैर्य से प्रतीक्षा करनी हैं बाकी सब शिव सम्भालेंगे...
    भालविभोर करता लाजवाब सृजन।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय सुधा जी,आपकी वाणी माँ शारदे की प्रिय सुता की वाणी है ।बस यही प्रार्थना है शिव विकल हृदयों की पुकार सुनें।अत्यंत आभार आपकी आत्मीयता भरी प्रतिक्रिया का 🙏❤

      हटाएं
  22. शिव जी ने निराश किया हो लगता नहीं फिर भी भक्त भगवान से निवेदन तो कर ही सकता है सुंदर निवेदन।🙏

    जवाब देंहटाएं
  23. क्यों कर गए वंचित पल में,
    करुणा के उपहार से तुम!
    भगवान शिव को समर्पित भक्तिमय भावपूर्ण कृति ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार और शुभकामनाएँ प्रिय संजय।

      हटाएं

Yes

विशेष रचना

पुस्तक समीक्षा और भूमिका --- समय साक्षी रहना तुम

           मीरजापुर  के  कई समाचार पत्रों में समीक्षा को स्थान मिला।हार्दिक आभार शशि भैया🙏🙏 आज मेरे ब्लॉग क्षितिज  की पाँचवी वर्षगाँठ पर म...