समर्थक

शुक्रवार, 2 फ़रवरी 2018

जब हम तुमसे ना मिले थे - नवगीत

Image result for फूल के चित्र

 जब हम  तुमसे  ना मिले थे ,
 कब  मन के बसंत खिले थे  ?

चाँद ना था  चमकीला   इतना ?
 कब महके मन के   वीराने थे ?
 पल प्रतीक्षा के भी   साथी --
 कहाँ  इतने   सुहाने  थे ?
 रुके थे निर्झर पलकों   में     -
 ना मधुर  अश्कों में ढले थे -
  जब हम तुमसे न मिले थे !!

जो  ख़ुशी  मिली तुमसे -
 उसे  किधर ढूंढने  जाते ?
 ले अधूरी  हसरतें यूँ ही -
  दुनिया से विदा हो जाते ;
खुशियों से तो इस दिल के -
 मीलों के फासले थे 
 जब  हम तुमसे ना मिले थे !!

सब  कुछ  था पास   मेरे --
फिर भी कुछ ख्वाब  अधूरे थे ,
 तुम बिन  ना सुनता कोई -
  मन के संवाद अधूरे थे  ;
 जीवन  से ओझल    साथी -
ये उमंगों के  सिलसिले थे
जब हम तुमसे ना मिले थे !!!!!!!
  चित्र -- गूगल से साभार |

61 टिप्‍पणियां:

  1. सब कुछ था पास हमारे --
    फिर भी कुछ ख्वाब अधूरे थे ,
    तुम बिन ना सुन पाता कोई -
    वो मन के संवाद अधूरे थे ;
    जीवन से ओझल साथी -
    ये उमंगों के सिलसिले थे
    जब हम तुमसे ना मिले थे !!
    प्रेम में आकंठ आसक्त मन का खूबसूरत एहहास लिए मनोरमपप्रेम कविता.... बधाई आदरणीय रेणु जी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय पुरुषोत्तम जी -- आपका प्रोत्साहन किसी भी आभार से परे है | सादर नमन --

      हटाएं
  2. प्रेम होने के बाद ही मौसम ऋतुएं चाँद सूरज होने का सुखद अहसास होता है, यह सुखद अहसास जीवन की स्मृतियों का एक हिस्सा होता है.
    यह रचना इसी हिस्से की अनुभूति का अहसास कराती है
    बसंत और प्रेम की सुंदर प्रस्तुति
    सादर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय सर -- आपके प्रेरक शब्द अनमोल हैं | सादर नमन --

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. आदरणीय दीपाली जी --मेरे ब्लॉग पर सादर अभिनन्दन आपका | रचना को पसंद करने के लिए हार्दिक आभार |

      हटाएं
  4. मधुर अनुभूति की मोहक अभिव्यक्ति :)

    जवाब देंहटाएं
  5. उत्तर
    1. आदरणीय लोकेश जी -- निरंतर सहयोग और प्रोत्साहन के लिए आपकी आभारी हूँ |

      हटाएं
  6. बहुत खूब लिखा आपने,सुंदर कविता

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय श्री राम जी -- स्वागत है मेरे ब्लॉग पर आपका | रचना पसंद करने के लिए आभारी हूँ आपकी |

      हटाएं
  7. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार ९फरवरी २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय श्वेता बहन -आपके अतुलनीय सहयोग की आभारी हूँ |

      हटाएं
  8. खुशियों से तो इस दिल के -
    मीलों के फासले थे ;
    जब हम तुमसे ना मिले थे !!
    वाह!!!
    बहुत लाजवाब रचना....

    जवाब देंहटाएं
  9. बचपन फिर ना लौटेगा

    वो बचपन की किलकारियां
    ना कोई दुश्मन ना यारियां
    सर पे ना कोई ज़िम्मेदारियाँ
    वो मासूम सी होशियारियाँ,

    वो बचपन फिर ना लौटेगा !

    वो धूप में नंगे पाँव दौड़ना
    कभी कीचड़ में लौटना
    ना हारना ना कभी थकना
    कभी बे वजह मुस्कुराना,

    वो बचपन फिर ना लौटेगा !

    गली गली बेवजह दौड़ना
    खिलोने पटक कर तोड़ना
    टूटे खिलोने फिर से जोड़ना
    छोटी छोटी बात पर रूठना,

    वो बचपन फिर ना लौटेगा !

    कभी मिटटी के घर बनाना
    घरों को फिर मिटटी से सजाना
    कभी दिन भर माँ को सताना
    फिर माँ की छाती से लिपट सो जाना,

    वो बचपन फिर ना लौटेगा
    हाँ !! वो बचपन फिर ना लौटेगा

    https://deshwali.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय देशवाली जी -- आपका सरस सरल लेखन बहुत हृदयस्पर्शी है ? सचमुच वो मासूम बचपन फिर से कहाँ ले लौट पाता है ? सस्नेह ______

      हटाएं
  10. बहुत ही सुंदर भावाभिव्यक्ति रेणु जी मेरी भी एक कविता कुछ इन्ही भावो से भरी है, पढियेगा छोटी बड़ी बात पर "जब हम न मिले थे"

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय दीपाली जी -- एक बार फिर स्वागत है आपका मेरे ब्लॉग पर | आपको रचना पसंद आई मेरा लेखन सार्थक हुआ | मैं जरुर आपके ब्लॉग पर जल्द ही आऊँगी | सस्नेह -

      हटाएं
  11. गहरे अहसास में डूब कर लिखी गयी एक बहुत सुन्दर कविता ... बधाई रेनू जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय वंदना जी -- आपकी सराहना अनमोल है |सादर आभार --

      हटाएं
  12. बहुत प्यारी सी रचना है रेनू दी

    जवाब देंहटाएं
  13. गहरा अहसास सुंदर अल्फाज़
    बेहद खूबसूरत रचना दीदी जी
    लाजवाब 👌

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय आँचल -- आपका ब्लॉग पर स्वागत है |रचना आपको पसंद आई मेरा लेखन सार्थक हुआ | मेरा प्यार |

      हटाएं
  14. गहरा अहसास सुंदर अल्फाज़
    बेहद खूबसूरत रचना दीदी जी
    लाजवाब 👌

    जवाब देंहटाएं
  15. बहुत खूबसूरत रचना प्रिय रेनु जी ।

    जवाब देंहटाएं
  16. वाह बहुत खूबसूरत रचना रेणू बहन मन के सारे कोमल भाव मुखरित हो गये बस जैसे ही चाहत के फूल खिल गये लगता कि जैसे पारस को छू कर लो आ कुंदन बन गया।
    अप्रतिम अभिराम।

    जवाब देंहटाएं
  17. वाह बहुत खूबसूरत रचना रेणू बहन मन के सारे कोमल भाव मुखरित हो गये बस जैसे ही चाहत के फूल खिल गये लगता कि जैसे पारस को छू कर लो आ कुंदन बन गया।
    अप्रतिम अभिराम।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय कुसुम बहन--- आपके शब्द मेरे लेखन को सार्थक कर मुझे आनन्दविभोर कर देते हैं | आभार कहूं तो इस स्नेह की महिमा घट जायेगी | बस मेरा प्यार |

      हटाएं
  18. रेणु,प्रेम से परिपूर्ण बहुत ही सुंदर रचना।

    जवाब देंहटाएं
  19. प्रिय ज्योति बहन -- आपको रचना पसंद आई मन को आनन्द हुआ | सस्नेह आपका आपका |

    जवाब देंहटाएं
  20. प्रिय रेणु रचना बहुत ही प्यारी लगी। उत्तम सृजन के लिए बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  21. बहुत ही बेहतरीन रचना रेनु मैम

    जवाब देंहटाएं
  22. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  23. उत्तर
    1. आदरणीय राजकमल जी -- स्वागत है आपका ब्लॉग पर | आभारी हूँ कि आपने रचना पढ़ी और अपनी राय दी |

      हटाएं
  24. जो खुशी मिली तुमसे
    किधर ढूंढने जाते?
    वाह सखी रेणु जी! बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति।लाजवाब

    जवाब देंहटाएं
  25. समर्पित भावों से सजी हृदय को सुकून देती बहुत सुन्दर और लाजवाब
    अभिव्यक्ति रेणु जी । सस्नेह आभार इतनी सुन्दर रचना लेखन के
    लिए ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय मीना जी , हार्दिक आभार आपका , इस स्नेहासिक्त प्रतिक्रिया के लिए 🙏🙏

      हटाएं
  26. ब्लॉग अनुसरणकर्ता गैजेट लगाएं।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनुसरणकर्ता गैजेट लगा हुआ है सुशील जी। आप हैं उस लिस्ट में मैंने देख लिया है।, शायद किसी तकनीकी वजह से नहीं दिखता । आप जरूर बताएं कि अब दिखा रहा है कि नहीं (🙏🙏

      हटाएं
  27. खूबसूरत शब्दों शब्दों के माध्यम से भावों को प्रदर्शित करनेे की कला में आप दक्ष हैं, बेहतरीन सृजन!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय उर्मिला जी | आपकी सराहना मेरे लिए किसी उपहार से कम नहीं |

      हटाएं

Yes

विशेष रचना

क्षमा करना हे श्रमवीर!

औरंगबाद के दिवंगत   श्रमवीरों के नाम --        ऐसे सोये- सोते ही रहे- -- , भला! ऐसी भी क्या आँख लगी ? पहचान सके ना मौत कीआहट-   अ...