मेरी प्रिय मित्र मंडली

रविवार, 20 मार्च 2022

नीड़ तुम्हारा चिड़िया !

 

कितना सुंदर -कितना प्यारा 
 है ये  नीड़  तुम्हारा  चिड़िया !
तिनका-तिनका  गूँथा हुआ है
इसमें प्यार तुम्हारा चिड़िया |

पढ़ी कभी न विद्यालय में,
अनथक खोयी  अपनी ही लय में!
धीरज , श्रम अलंकार तुम्हारे
डूबी  ना कभी संशय में!
नीड़कला की माहिर तुम 
हुनर ये जग  में  न्यारा चिड़िया !

रंग सपनों में नित भर-भरकर,
खूब सजाओ छोटा-सा ये घर!
निर्जनता में स्पंदन भर,  गूँजे
तेरा आहलादित  मधुर,करुण स्वर
उड़ता निर्मम समय का पाखी
ना आता लौट दुबारा चिड़िया |
 


आजन्म  निर्बंध और उन्मुक्त  
फिर भी  जग-भर की प्यारी तुम !
 तूफानों से भिड़-भिड़ जाती 
 कहाँ  कभी  हिम्मत हारी तुम !
जिधर जी चाहे,फुर्र से  उड़ जाती  
है सारा जहाँ तुम्हारा चिड़िया !

[चित्र गूगल से साभार ]
 
चिड़िया पर मेरी दो  अन्य रचनाएँ 
1-----'पेड़ ने पूछा चिड़िया से '
 https://renuskshitij.blogspot.com/2017/09/blog-post_12.html
2 आई आँगन के पेड़ पे चिड़िया 
https://renuskshitij.blogspot.com/2017/07/blog-post_5.html


37 टिप्‍पणियां:

  1. दिवस तो बीता
    गौरैय्या नहीं बीतने वाली
    रहेंगी वे हरपल,हर क्षण
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  2. गौरैया को याद करती प्यारी रचना ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार और प्रणाम प्रिय दीदी🙏🙏

      हटाएं
  3. गौरैया पर बहुत ही सुंदर रचना, रेणु दी। मैं भी जब अपने बगीचे में उन्हें दाना डालती तब उन्हें दाना चुगते देखना दिल को बहुत ही सुकून देता है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार और अभिनंदन प्रिय ज्योति जी 🙏🙏

      हटाएं
  4. आपकी लिखी रचना  ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" मंगलवार 22 मार्च 2022 को साझा की गयी है....
    पाँच लिंकों का आनन्द पर
    आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  5. उत्तर
    1. हार्दिक आभार और अभिनंदन प्रिय भारती जी 🙏❤ दीदी🙏🙏

      हटाएं
  6. बहुत सुंदर प्यारी रचना ।
    इस समय मेरे किचन के ऊपर खिड़की में घोंसला बना लिया है,सुबह शाम मेरे साथ रहती हैं, मैं भी प्रफुल्लित वो भी । दिन भर तिनका लाती हैं, मेरे शमी के पेड़ को गंजा कर दिया है, पर क्या कहूं मेरी बचपन की दोस्त हैं न गौरैया रानी😀😀

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी जिज्ञासा जी,बहुत भाग्यशाली हैं आप जो गौरैया के इस जीवट कर्म की साक्षी बनी हुई हैं।मेरे यहाँ बहुत तरह की रंग बिरंगी चिडियाँ नित दिखाई देती हैं।बहुत अच्छा लगता है उन्हें आँगन में स्वछन्द फुदकते देखकर।हार्दिक आभार आपकी आत्मीयता भरी प्रतिकिया के लिए ❤❤

      हटाएं
  7. चिड़िया पर लिखी बहुत प्यारी और मन को छूती रचना

    बधाई

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार और प्रणाम आदरनीय सर 🙏🙏

      हटाएं
  8. चिङिया में जीवन का स्पंदन अनुभव करती कविता । साधुवाद ।

    जवाब देंहटाएं
  9. उत्तर
    1. हार्दिक आभार और प्रणाम आदरनीय आलोक जी 🙏🙏

      हटाएं
  10. कितना सुंदर -कितना प्यारा
    है ये नीड़ तुम्हारा चिड़िया !
    तिनका-तिनका गूँथा हुआ है
    इसमें प्यार तुम्हारा चिड़िया |
    बेहद खूबसूरत रचना ।

    जवाब देंहटाएं
  11. उड़ता निर्मम समय का पाखी
    ना आता लौट दुबारा चिड़िया |
    जीवन के दर्शन को चिड़िया के नीड़ के तिनके-तिनके में पिरोती अद्भुत रचना।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार और प्रणाम आदरणीय विश्वमोहन जी 🙏🙏

      हटाएं
  12. आजन्म निर्बंध और उन्मुक्त
    फिर भी जग-भर की प्यारी तुम !
    तूफानों से भिड़-भिड़ जाती
    कहाँ कभी हिम्मत हारी तुम !
    जिधर जी चाहे,फुर्र से उड़ जाती
    है सारा जहाँ तुम्हारा चिड़िया !
    एक समय था जब चिड़ियाँ हर वर्ष में कम से कम दो बार घर के छज्जे में लगे बीम के नीचे घोंसले बनाती थीं। कई बार उनके बच्चे घोंसले से नीचे गिर जाते, फिर उनका वो बच्चों को उड़ना सिखाना...
    अब तो कभी कभी ही दर्शन होते हैं गोरैया के। मनमोहक व सार्थक रचना हेतु बधाई प्रिय रेणु।

    जवाब देंहटाएं
  13. तिनका-तिनका गूँथा हुआ है
    इसमें प्यार तुम्हारा चिड़िया |
    बेहद खूबसूरत चिड़िया पर लिखी प्यारी रचना 👍

    जवाब देंहटाएं

  14. पढ़ी कभी न विद्यालय में,
    अनथक खोयी अपनी ही लय में!
    धीरज , श्रम अलंकार तुम्हारे
    डूबी ना कभी संशय में!
    नीड़कला की माहिर तुम
    हुनर ये जग में न्यारा चिड़िया !
    कितना सटीक लिखा है सच बड़ा आश्चर्य होता है इनकी कला से....
    बहुत ही सुन्दर मनमोहक सृजन
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
  15. बहुत अच्छी कविता।हार्दिक शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  16. चिड़िया का अनथक श्रम और लगन वाकई कितनों को प्रेरणा से भर जाती है, सुंदर रचना !

    जवाब देंहटाएं
  17. उत्तर
    1. हार्दिक स्वागत और आभार प्रिय विभा जी ❤🌺🙏

      हटाएं
  18. डूबी ना कभी संशय में!
    नीड़कला की माहिर तुम
    हुनर ये जग में न्यारा चिड़िया !
    कितना सटीक लिखा है

    जवाब देंहटाएं

Yes

विशेष रचना

सब गीत तुम्हारे हैं

  तुम्हारी यादों की  मृदुल  छाँव में  बैठ सँवारे  हैं  मेरे पास कहाँ कुछ था  सब गीत तुम्हारे हैं | मनअम्बर पर टंका हुआ है, ढाई  आखर  प्रेम  ...